Tuesday, September 18, 2018 09:49 PM

मुंगेर में अब केवल थाना प्रभारी ही सुनेंगे पीड़ितों की पीड़ा

मुंगेर (उत्तम हिन्दू न्यूज): बिहार के मुंगेर जिले में पुलिसकर्मियों को और अधिक जवाबदेह एवं संवेदनशील बनाने, त्वरित न्याय दिलाने, तथा पुलिस की छवि सुधारने के लिए अब पीड़ितों की पीड़ा केवल थाना प्रभारी या ड्यूटी पर तैनात पुलिस पदाधिकारी ही सुनेंगे।

पुलिस अधीक्षक बाबू राम ने आज यहां लिखित आदेश जारी कर जिले के सभी पंद्रह थानों के मुंशी को पीड़ितों से बात करने पर पूरी तरह से रोक लगा दी है। उन्होंने बताया कि अब थानों में अपनी शिकायत या समस्या लेकर पहुंचने वाले पीड़ितों की केवल थाना प्रभारी या ड्यूटी पर तैनात पुलिस पदाधिकारी ही बात सुनेंगे और उनकी समस्याओं का निदान करेंगें।

बाबू राम ने बताया कि ऐसी व्यवस्था करने का मुख्य उद्देश्य यह है कि मुसीबत में फंसे पीड़ित जब पुलिस थाने पहुंचे तो पुलिस पदाधिकारी उनके साथ अच्छा व्यवहार करें। साथ ही पीड़ितों को त्वरित न्याय दिलाने का हर संभव प्रयास करें।
 
पुलिस अधीक्षक ने जिले के सभी पन्द्रह पुलिस थानों के प्रभारियों, अंचल निरीक्षकों और अनुमंडलीय पुलिस पदाधिकारियों को लड़कियों या महिलाओं के साथ सड़क और अन्य सार्वजनिक स्थानों पर छेड़खानी करने या गंदा मजाक करनेवाले रोमियो को तुरंत गिरफ्तार करने का आदेश दिया है। 

बाबू राम ने बताया कि जिले में किसी भी क्षण घटित होनेवाली घटना से निपटने के लिए सभी थानों के वायरलेस यंत्र को 24 घंटा कार्यरत रखने का आदेश दिया गया है। साथ ही जिले के सभी अनुमंडलीय पुलिस पदाधिकारी, अंचल पुलिस निरीक्षक और थाना प्रभारियों को हमेशा ‘वायरलेस-पैक’ से लैश रहने का भी आदेश दिया गया है। 

WhatsApp पर न्यूज़ Updates पाने के लिए हमारे नंबर 7400063000 को अपने Mobile में Save करके इस नंबर पर Missed Call करें ।