मुंबईः एक मछली की कीमत 5.5 लाख, इसलिए है खास

मुंबई (उत्तम हिन्दू न्यूज): हाल ही में मुंबई के दो मछुआरों के हाथ एक एेसी मछली लगी, जिससे उनकी चान्दी हो गई। उक्त मछली की कीमत बाजार में लगभग 5.5 लाख बताई जा रही है। दरअसल यह वाक्या शुक्रवार का है, जब स्थानीय मछुआरा महेश मेहर व उसका भाई भरत समुद्र में मछली पकड़ने गए थे। इस दौरान मुर्बे तट पर पहुंचने पर उनका जाल भारी हो गया, जिसे उन्होंने देखा तो वहां एक घोल फिश फंसी हुई थी। बताया जा रहा है कि मछली का वजन लगभग 30 किलोग्राम था।

घोल फिश के बारे में पता लगने पर व्यापारियों की लाईनें लग गईं। जिस कारण मछली की बोली लगानी पड़ी तथा यह बोली 5.5 लाख रुपये पर आकर रुकी। घोल फिश के बारे में अगर बात की जाए तो इस मछली की बाजार में भारी डिमांड है। क्योंकि यह स्वादिष्ट तो होती ही है, साथ ही मछली के अंगों के औषधीय गुणों के कारण पूर्वी एशिया में इसकी कीमत बहुत ज्यादा है। यहां तक कि घोल (ब्लैकस्पॉटेड क्रॉकर, वैज्ञानिक नाम प्रोटोनिबा डायकांथस) को 'सोने के दिल वाली मछली' के रूप में भी जाना जाता है।

इतना ही नहीं घोल मछली की त्वचा में उच्च गुणवत्ता वाला कोलेजन (मज्जा) पाया जाता है। इस कोलेजन को दवाओं के अलावा क्रियाशील आहार, कॉस्मेटिक उत्पादों को बनाने में प्रयोग किया जाता है। बीते कुछ वर्षों में इन सामग्री की वैश्विक मांग बढ़ रही है। यहां तक कि घोल का महंगा कमर्शल प्रयोग भी होता है।