गोडसे को देशभक्त बताने वाली प्रज्ञा पर कार्रवाई करें मोदी: कांग्रेस

नयी दिल्ली(उत्तम हिन्दू न्यूज)- कांग्रेस ने कहा है कि भारतीय जनता पार्टी की भोपाल लोकसभा सीट से उम्मीदवार प्रज्ञा ठाकुर ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को सच्चा देशभक्त बताकर पूरे राष्ट्र काे अपमानित किया है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इसके लिए उन्हें दंडित करके पूरे देश से बिना शर्त माफी मांगनी चाहिए।

कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख रणदीपसिंह सुरजेवाला ने गुरुवार को यहां पार्टी मुख्यालय में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि गांधी जी की विचारधारा पर भाजपाई प्रहार जारी है। साध्वी प्रज्ञा द्वारा राष्ट्रपिता के हत्यारे को महिमा मंडित करने से भाजपा का हिंसक चेहरा उजागर हुआ है और साफ हुआ है कि भाजपाई गोडसे के वंशज हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा बार-बार अपने नेताओं से राष्ट्रपिता की सोच, रास्ता और विचारधारा पर कुत्सित हमले बोल रही है। उन्होंने इन हमलाें को गांधीवादी सिद्धांतों का तिरस्कार करने का षडयंत्र बताया और कहा कि शहीदों और महान विभूतियों का अपमान भाजपा की संस्कृति का हिस्सा बन गया है। प्रवक्ता ने कहा कि हाल में ही सुश्री ठाकुर ने 26/11 के मुंबई हमले के शहीद हेमंत करकरे को ‘देशद्रोही’ बताकर और उनके पूरे परिवार को शॉप देने का अक्षम्य अपराध किया था लेकिन उनकी उम्मीदवारी वापस लेने और देश से माफी मांगने की बजाए श्री मोदी ने उनका बचाव किया है। 

इसी तरह से बापू के 71वें बलिदान दिवस पर गत 30 जनवरी को संघ परिवार से जुड़े एक संगठन ने गांधीजी का पुतला बनाकर एयर पिस्टल से उसे गोली मारी और गोडसे का महिमामंडन किया। इससे पहले भाजपा सांसद तथा पार्टी की केंद्रीय कार्यसमिति के सदस्य साक्षी महाराज ने संसद परिसर में बापू के हत्यारे को देशभक्त बताया था। भाजपा अपने इन नेताओं के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं करके साबित कर दिया है कि भाजपाई गोडसे के वंशज हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा न सिर्फ गोडसे को महिमामंडित करती है बल्कि मोहम्मद जिन्ना की प्रशंसा भी करती है। इस संबंध में उन्होंने मध्य प्रदेश के रतलाम से पार्टी प्रत्याशी गुमान सिंह डामोर का उदाहरण दिया और कहा कि श्री डामोर ने देश को बांटने वाले मोहम्मद अली जिन्ना को देश का पहला प्रधानमंत्री बनाने की वकालत की थी। उसको दंडित करने की बजाय श्री नरेंद्र मोदी रतलाम जाकर उसकी पीठ थपथपाते हैं, तथा जन सभा कर उसे जिताने की अपील करते हैं।