मोदी के गृह प्रदेश में थम गया प्रचार का शोर, 23 को सभी 26 सीटों पर होगा मतदान

गांधीनगर(उत्तम हिन्दू न्यूज)- प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के गृह राज्य गुजरात में आगामी 23 अप्रैल को सभी 26 लोकसभा सीटों पर एक साथ होने वाले चुनाव के लिए प्रचार का शोर आज शाम छह बजे थम गया।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अमित शाह ने आज अंतिम दिन भी अपने राज्य में चुनाव प्रचार किया। श्री मोदी ने उत्तर गुजरात के पाटन में एक बड़ी चुनावी सभा की तथा लोगों से आशीर्वाद देने की अपील की जबकि श्री शाह ने रोड शो में भाग लिया। कांग्रेस की ओर से आज राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गेहलाेत ने डीसा में एक रैली में भाग लिया। अभिनेत्री अमिषा पटेल ने वडोदरा में कांग्रेस के पक्ष मे रोड शो किया। राज्य भर में कई मोटरसाइकिल रैलियां भी आयोजित की गयी।

प्रचार के दौरान भाजपा ने जहां राष्ट्रीय सुरक्षा, आतंकवाद और विकास के साथ ही साथ कांग्रेस के गुजरात के साथ कथित अन्याय को मुख्य मुद्दा बनाया वहीं कांग्रेस ने नोटबंदी और जीएसटी के अलावा किसानों की बदहाली और बेरोजगारी आदि को प्रमुखता से उठाया। श्री माेदी ने गुजरात में कुल सात चुनावी सभाएं की और श्री गांधी ने पांच रैलियां की। दोनो ने एक दूसरे पर सीधे प्रहार भी किये। श्री गांधी ने श्री मोदी पर गिने चुने उद्योगपतियों के लिए काम करने का आरोप लगाया और गरीबों के खाते में धन देने की अपनी न्याय योजना को भी खूब प्रचारित किया। उन्होंने इसे गरीबी के खिलाफ अपनी पार्टी का सर्जिकल स्ट्राइक करार दिया। भाजपा की ओर से इसके राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, जो गांधीनगर लोकसभा सीट पर प्रत्याशी भी हैं, ने पांच रोड शो किये जिनमें आज अंतिम दिन साणंद में आयोजित एक रोड शो भी शामिल है। उन्होंने भी अपनी सभाओं में कांग्रेस पर सीधे हमले किये । भाजपा की ओर से केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, सुषमा स्वराज, स्मृति ईरानी, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फणनवीस, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आदि ने प्रचार किया हैं। कांग्रेस की ओर से पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू , पार्टी के कोषाध्यक्ष अहमद पटेल तथा हाल में भाजपा छोड़ पार्टी में आये अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा ने भी सभाएं की। 

चुनाव प्रचार के दौरान कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल पर हुए हमले की भी खासी चर्चा रही। सुरेन्द्रनगर के बलदाणा गांव में उनकी सभा के दौरान एक व्यक्ति ने उन को तमाचा जड़ दिया था। हार्दिक ने आज अंतिम दिन जामनगर में प्रचार किया। चुनाव प्रचार के दौरान कांग्रेस विधायक अल्पेश ठाकोर के बागी रूख अपनाने और पार्टी से त्यागपत्र दिये जाने को भी सुर्खियां मिली। पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के लिए काम करने वाले हार्दिक और अल्पेश के बीच शाब्दिक नोंकझोक की भी चर्चा रही। 
ज्ञातव्य है कि तीसरे चरण में गुजरात की 26 लोकसभा सीटों के साथ ही देश भर में कुल 14 राज्यों की कुल 115 सीटों पर चुनाव होना है। गुजरात में कांग्रेस विधायकों के इस्तीफे के कारण चार विधानसभा सीटों जामनगर ग्रामीण, ऊंझा, ध्रांगध्रा और माणावदर में उपचुनाव भी होंगे। मतदान सुबह सात बजे से शाम छह बजे तक होगा। कुल 4.47 करोड़ मतदाताओं में 2.14 करोड महिलाएं हैं। चुनाव के लिए कुल 51851 मतदान केंद्र बनाये गये हैं। सभी 26 लोकसभा सीटों पर कुल 371 प्रत्याशी मैदान में है इनमें से सर्वाधिक 31 सुरेन्द्रनगर में और न्यूनतम छह पंचमहाल में हैं। चार विधानसभा सीटों पर कुल 45 प्रत्याशी हैं। मुख्य मुकाबला सत्तारूढ़ भाजपा और मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के बीच माना जा रहा है।

भाजपा ने पिछली बार सभी 26 लोकसभा सीटों पर जीत हासिल की थी। चुनाव के दिन प्रधानमंत्री मोदी अहमदाबाद के राणिप में एक बूथ पर अपना मतदान करेंगे। यह गांधीनगर लोकसभा क्षेत्र में आता है। वित्त मंत्री अरूण जेटली भी अहमदाबाद के एक बूथ पर मतदान करेगे। गुजरात से लोकसभा चुनाव में श्री शाह के अलावा प्रमुख उम्मीदवारोें में चार पूर्व केंद्रीय मंत्री भरतसिंह सोलंकी (कांग्रेस, आणंद) तुषार चौधरी (कांग्रेस, बारडोली) , मनसुख वसावा (भाजपा भरूच) और मोहन कुंडारिया (भाजपा राजकोट) है। इनके अलावा राज्य के मंत्री परबत पटेल बनासकांठा सीट पर भाजपा उम्मीदवार है। कांग्रेस ने नेता प्रतिपक्ष और अमरेली के विधायक परेश धानाणी समेत आठ विधायकों को भी चुनाव मैदान में उतारा है। भाजपा ने चार निवर्तमान सांसदों समेत छह महिलाओं को टिकट दिया है जबकि कांग्रेस ने केवल एक महिला प्रत्याशी को मैदान में उतारा है। भाजपा ने एक भी मुस्लिम उम्मीदवार नहीं बनाया है जबकि कांग्रेस ने मात्र एक मुस्लिम को टिकट दिया है। राज्य की दो सीटे अनुसूचित जाति तथा चार अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित हैं। मतगणना 23 मई को होगी। मुख्य निर्वाचन अधिकारी एस मुरली कृष्णा ने बताया कि ऐसे राजनीति कार्यकर्ताओं जो स्थानीय मतदाता नहीं हैं, को अब उन क्षेत्रों में रहने की मंजूरी नहीं है। गुजरात की सीमाएं सील की जा रही है। पुलिस असमाजिक तत्वों पर नजर रख रही है। उड़न दस्ते तथा एसएसटी की टीमे भी 24 घंटे सक्रिय रहेगी। लोग टॉल फ्री नंबर 1950 तथा सीविजल ऐप पर शिकायत कर सकते हैं।

Related Stories: