+

बैंक डूबने पर खाताधारकों को 90 दिन में मिलेंगे 5 लाख रुपए, मोदी कैबिनेट ने DICGC एक्ट में संशोधन पर लगाई मुहर

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज)-विभिन्न बैंकों के डूबने से खाताधारकों को होने वाली परेशानी को खत्म करने के लिए मोदी कैबिनेट ने बड़ा कदम उठाया है। कैबिने
बैंक डूबने पर खाताधारकों को 90 दिन में मिलेंगे 5 लाख रुपए, मोदी कैबिनेट ने DICGC एक्ट में संशोधन पर लगाई मुहर

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज)-विभिन्न बैंकों के डूबने से खाताधारकों को होने वाली परेशानी को खत्म करने के लिए मोदी कैबिनेट ने बड़ा कदम उठाया है। कैबिनेट ने आज बैठक में DICGC एक्ट में बदलाव को मंजूरी दे दी है। अब इसके बारे में बिल को संसद में रखा जाएगा। इस बिल की महत्वपूर्ण बात यह है कि अब किसी बैंक के डूबने पर बीमा के तहत खाताधारकों को पैसा 90 दिन के भीतर 5 लाख रुपए मिल जाएंगे। बैठक के बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतामरण ने फैसलों की जानकारी देते हुए कहा कि अब किसी बैंक के दिवालिया होने या उसका लाइसेंस रद्द होने या उस पर RBI द्वारा कोई प्रतिबंध लगने पर 90 दिनों के अंदर डिपॉजिटर को उसकी 5 लाख रुपये तक की जमा मिलने की प्रॉसेस पूरी हो जाएगी।

Cash taken out of system finds its way back in India

दरअसल किसी बैंक के दिवालिया होने या उसका लाइसेंस रद्द होने पर उसमें जमा डिपॉजिटर की 5 लाख रुपये तक की ही रकम सुरक्षित होती है, फिर चाहे कुल जमा कितनी ही क्यों न हो। पहले यह लिमिट 1 लाख रुपये थी, लेकिन सरकार इसे बढ़ाकर 5 लाख रुपये कर चुकी है। निर्मला सीतामरण ने कहा कि इस संशोधन से खाताधारकों और निवेशकों के पैसे की सुरक्षा मिलेगी। उन्होंने कहा कि इसके तहत कॉमर्श‍ियली ऑपरेटेड सभी बैंक आएंगे, चाहे वह ग्रामीण बैंक क्यों न हों। वित्त मंत्री ने बताया कि इस तरह के बीमा के लिए प्रीमियम बैंक देता है, ग्राहक नहीं।

Currency update: Indian Rupee gains against foreign currency today on 03  May 2021

शेयर करें
facebook twitter