कर्नाटक सेक्स सीडी कांड में फंसे मंत्री रमेश जरकिहोली ने दिया इस्तीफा, CM येदियुरप्पा ने स्वीकार कर राज्यपाल को भेजा

बेंगलुरु (उत्तम हिन्दू न्यूज): सेक्स टेप कांड में घिरे कर्नाटक के मंत्री रमेश जरकिहोली ने नैतिकता के आधार पर अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। टेप वायरल होने के बाद से रमेश जरकिहोली विपक्ष के निशाने पर थे और उनके चलते सूबे के सीएम बीएस येदियुरप्पा भी विपक्ष के आरोपों में घिरे हुए थे। सीएम बीएस येदियुरप्पा को लिखे पत्र में जारकीहोली ने लिखा कि मेरे खिलाफ आरोप गलत हैं। निष्पक्ष जांच होनी चाहिए, मैं नैतिक आधार पर इस्तीफा दे रहा हूं। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार सीएम बीएस येदियुरप्पा ने रमेश का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है। इसके बाद जारकीहोली के इस्तीफे को राज्यपाल के पास मंजूरी के लिए भेज दिया गया।

ramesh jarkiholi

जल संसाधन मंत्री के तौर पर कैबिनेट का दर्जा रखने वाले रमेश जरकिहोली का एक महिला संग अश्लील बातचीत का ऑडियो टेलीविजन चैनलों पर चलाया जा रहा था। सोशल ऐक्टिविस्ट दिनेश कल्लाहल्ली ने बेंगलुरु के क्यूबन पुलिस थाने में शिकायत की थी। शिकायत में आरोप लगाया गया है कि नौकरी का झांसा देकर महिला का यौन उत्पीड़न किया गया।

दरअसल दिनेश कल्लाहल्ली ने बेंगलुरु शहर के पुलिस कमिशनर कमल पंत से मुलाकात की तो कुछ न्यूज चैनल्स ने जरकीहोली के तथाकथित निजी वीडियो मीडिया में प्रसारित कर दिए। हालांकि, अभी तक यह नहीं पता लगा है कि यह वीडियो कितना पुराना है। मामला सामने आते ही सीएम येदियुरप्पा ने अपने वरिष्ठ सहयोगियों के साथ इस मसले पर मीटिंग की थी। इसके बाद कहा जा रहा था कि एक बार मंत्री का पक्ष सुनने के बाद ही उनके इस्तीफे पर फैसला लिया जाएगा।  बता दें कि 60 वर्षीय जरकिहोली कर्नाटक के बेलागवी से आते हैं और येदियुरप्पा कैबिनेट में ताकतवर नेता माने जाते हैं।

इससे पहले मंगलवार को राज्य के एक और मंत्री बीसी पाटिल को लेकर भी कर्नाटक सरकार विवादों में थी। दरअसल बीसी पाटिल ने घर पर ही स्वास्थ्यकर्मियों को बुलाकर टीका लगवाया था। इसे लेकर विवाद छिड़ गया था कि जब पीएम नरेंद्र मोदी, अमित शाह समेत तमाम सीनियर नेताओं ने अस्पताल में ही टीका लगवाया है तो फिर उनकी ही पार्टी के मंत्री ऐसा कैसे कर सकते हैं। इस पर जवाब देते हुए बीसी पाटिल ने कहा था कि उस वक्त उनके घर में कई लोग बैठे थे और यदि वह अस्पताल जाते तो फिर लोगों को इंतजार करना पड़ता। ऐसे में उन्होंने स्वास्थ्यकर्मियों को ही घर बुला लिया था और इसमें कुछ भी गलत नहीं है।