इस साल मानसून में जमकर होगी बारिश, किसानों की बल्ले-बल्ले, शेयर बाजार भी झूमा

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): भारत मौसम विभाग ने सोमवार को कहा कि इस साल मानसून के ''सामान्य के करीबÓÓ रहने की उम्मीद है। विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि मानूसन दीर्घकाल औसत (एलपीए) का 96 प्रतिशत रहने की संभावना है। एलपीए 1951 और 2000 के बीच की बारिश का औसत है जो 89 सेंटीमीटर है। एलपीए के बीच में 90-95 प्रतिशत के बीच कुछ भी ''सामान्य से निम्न'' की श्रेणी में आता है।



मौसम विभाग के मुताबिक देश में 2019 मानसून के मौसम में अच्छी तरह से वितरित होने की उम्मीद है। यह किसानों के लिए आने वाले खरीफ समुद्र में फायदेमंद होगा। उधर, अच्छे मानसून के पूर्वानुमान तथा विदेशों से मिले सकारात्मक संकेतों के बीच घरेलू शेयर बाजारों में सोमवार को लगातार तीसरे दिन लिवाली का जोर रहा और मुख्य सूचकांक करीब दो सप्ताह के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 138.73 अंक यानी 0.36 प्रतिशत की बढ़त में 38,905.84 अंक और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 46.90 अंक यानी 0.40 प्रतिशत की मजबूती के साथ 11,690.35 अंक पर बंद हुआ।

यह दोनों सूचकांकों का 2 अप्रैल के बाद का उच्चतम बंद स्तर है। इससे ग्रामीण अर्थव्यवस्था में मजबूती की उम्मीद है। इस घोषणा से घरेलू अर्थव्यवस्था को लेकर निवेशकों का विश्वास बढ़ा है। सेंसेक्स की कंपनियों में टाटा मोटर्स के शेयर सात फीसदी से ज्यादा चढ़े। अच्छे तिमाही परिणाम से टीसीएस में पौने पाँच फीसदी और कोल इंडिया में साढ़े चार फीसदी की बढ़त देखी गयी। टाटा स्टील के शेयर भी करीब साढ़े तीन प्रतिशत की बढ़त में रहे। उम्मीद से कमजोर तिमाही परिणाम के कारण इंफोसिस के शेयर करीब तीन फीसदी लुढ़क गए।
 

Related Stories: