पंजाब समेत कई राज्यों में अभी दो दिन और रहेगा बारिश का मौसम, हिमाचल में ओलावृष्टि का आरेंज अलर्ट

शिमला (ऊषा शर्मा) : उत्तर भारत में मौसम फिर बिगड़ गया है। पंजाब, हरियाणा के कई हिस्सों में बुधवार को जहां बारिश हुई वहीं हिमाचल प्रदेश के उच्च पर्वतीय इलाकों में रूक-रूक कर हिमपात का दौर शुरू हो गया है। पंजाब में फरीदकोट, चंडीगढ़ सहित कई जगह बारिश शुरू हो गई है। जालंधर में भी रुक-रुक कर बूंदाबादी हुई। पारा लुढक़ने से ठिठुरन फिर बढ़ गई है। मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार आज व कल कई जिलों में तेज बारिश व ओलावृष्टि हो सकती है। कृषि वैज्ञानिकों के अनुसार यह बारिश गेहूं की फसल के लिए नुकसानदायक है। यदि ओलावृष्टि हुई तो फसल बिछ सकती है।

Image result for पंजाब हरियाणा में बारिश


मौसम वैैैैज्ञानिकों की भविष्यवाणी से किसान चिंतित हैं। दो दिन पहले आई बारिश के कारण गेहूं की फसल को काफी नुकसान पहुंचा था। उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश के अलावा जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में भी कुछ स्थानों पर बारिश और बर्फबारी शुरू हो जाएगी। 11 मार्च की रात से इन राज्यों में बारिश और हिमपात की गतिविधियां बढ़ेंगी। उत्तर भारत में 12 मार्च तक बारिश और इसके बाद 13 और 14 मार्च को भी हिमपात और बारिश का दौर जारी रहेगा।

Image result for पंजाब हरियाणा में बारिश


वहीं राजधानी शिमला व आसपास के क्षेत्रों में सर्द हवाओं के साथ बारिश हुई। इससे सर्दी का असर बढ़ गया है। आलम यह रहा कि मार्च के महीने में भी दिसंबर की तरह ठंड पड़ रही है। मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि आने वाले 24 घंटों के दौरान प्रदेश के कई जिलों में भारी बारिश, हिमपात व ओलावृष्टि के साथ तेज हवाएं चलने की आशंका है। यह चेतावनी गुरूवार तक रहेगी। इसे लेकर 10 जिलों में आरेंज अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि पश्चिमी विक्षोभ की सक्रियता से 14 मार्च तक समूचे प्रदेश में मौसम खराब रहेगा। राज्य के मैदानी तथा मध्यपर्वतीय इलाकों में गुरूवार को गरज के साथ वर्षा व ओलावृष्टि का आरेंज अलर्ट जारी किया गया है। इस दौरान हवा की गति 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटा की रफतार से हवाएं चलने की संभावना है। यह अलर्ट हमीरपुर, बिलासपुर, ऊना, कांगड़ा, सोलन, शिमला, मंडी, सिरमौर, कुल्लू और चंबा जिलों के लिए जारी किया गया है। इस दौरान पर्वतीय इलाकों में हिमपात भी हो सकता है। इस कारण ठंड अधिक महसूस होगी।


उन्होंने कहा कि मैदानी इलाकों में 15 से 17 मार्च तक मौसम साफ हो जाएगा, जबकि मध्यपर्वतीय व उच्च पर्वतीय क्षेत्रों में 16 मार्च को मौसम साफ रहेगा, वहीं 17 मार्च को फिर वर्षा व हिमपात के आसार हैं। मौसम विभाग के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान गोंदला में 2 सेंटीमीटर ताजा हिमपात हुआ। वहीं धर्मशाला, चंबा, डल्हौजी और गग्गल में हल्की वर्षा हुई। राजधानी शिमला में बुधवार को दिन में तेज हवाओं के साथ बारिश हुई। इससे सर्दी का प्रकोप बढ़ गया। राजधानी का अधिकतम तापमान 5 डिग्री लुढक़कर 11.6 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया, जबकि न्यूनतम तापमान 4.8 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआ। लाहौल-स्पीति जिला का मुख्यालय केलंग राज्य में सबसे ठंडा रहा, जहां न्यूनतम तापमान -4 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। इसके अलावा किन्नौर के कल्पा में शून्य, कुफरी में 1.3, डल्हौजी में 2.9, मनाली में 4.8 डिग्री, पालमपुर में 7.5, चंबा व सोलन में 8.4 डिग्री, भुंतर में 8.5, धर्मशाला में 8.8, सुंदरनगर में 9.1, कांगड़ा में 9.4, मंडी में 10, ऊना में 10.4, हमीरपुर में 11.8, बिलासपुर में 12 और नाहन में 12.9 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया।