लुधियाना में कई पंजाबी गायक व शहरवासी ने किसानों के समर्थन में दिया धरना

लुधियाना (सचदेवा): केंद्र सरकार के खिलाफ किसानों के आंदोलन में अब पंजाबी गायकों के साथ ही शहरवासियों ने भी अपना समर्थन देना शुरू कर दिया है। रविवार को लुधियाना में अलग-अलग संगठनों के सदस्य किसानों के धरने में शामिल हुए और केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर भड़ास निकाली। धरने में प्रसिद्ध पंजाबी सूफी गायक कंवर ग्रेवाल, गीतकार बीर सिंह, गायिका प्रभनूर चाहल, गुरुद्वारा दुख निवारण के मुख्य सेवादार प्रितपाल सिंह, शाही इमाम,कांग्रेस लीडर कुलवंत सिंह सिद्धू   और अन्य हस्तियां विशेष तौर पर शामिल हुए।

उन्होंने केंद्र सरकार की तरफ से पास किए गए कृषि सुधार कानूनों को किसान विरोधी बताया। इस दौरान जहां धार्मिक और सामाजिक नेताओं ने लोगों को कृषि कानूनों के दुष्प्रभावों के बारे में बताते हुए एकजुट होने की अपील की और कहा कि केंद्र सरकार इन कानूनों के जरिए बड़े कारोबारियों के हवाले देश के अनाजों करना चाहती है और इससे हर वर्ग प्रभावित होगा। वहीं पर गायक कंवर ग्रेवाल ने जहां लोगों को एकजुट होने की अपील की वहीं पर उन्होंने किरदार के महत्व पर भी जोर दिया। कंवर ग्रेवाल ने कहा कि यह कानून सिर्फ किसानों के खिलाफ नहीं बल्कि सभी लोगों के खिलाफ है क्योंकि चाहे शहरी हो या ग्रामीण सभी किसी न किसी तरह खेतीबाड़ी से जुड़े हैं।

मंच पर उपस्थित सभी ने केंद्र सरकार से मांग की है कि इन कानूनों को रद्द कर किसानों के आक्रोश को शांत करें। शहरवासियों ने किसानों को भरोसा दिलाया के सरकार के खिलाफ इस आंदोलन में वह हर समय उनके साथ हैं। समाजसेवी लक्खा सिदाना ने भी किसानों के हक में आवाज उठाते हुए कहा कि सब एकजुट हैं और जब तक इन कानूनों को वापिस नहीं लिया जाता वे संघर्ष जारी रखेंगे।