मनमोहन सिंह का PM मोदी पर तंज- मैं प्रेस से घबराने वाला प्रधानमंत्री नहीं था

नयी दिल्ली(उत्तम हिन्दू न्यूज)- पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने खुद को मूक प्रधानमंत्री कहे जाने पर अपनी किताब के माध्यम से आलोचकों को करारा जवाब दिया है। डॉ सिंह ने जवाब देते हुए कहा, लोग कहते हैं कि मैं एक मूक प्रधानमंत्री था। मुझे लगता है कि यह पुस्तक (मनमोहन सिंह की किताब) खुद बोलती है। 'चेंजिंग इंडिया के शीर्षक के साथ प्रकाशित छह खंड की अपनी पुस्तक के विमोचन के अवसर पर मंगलवार को उन्होंने यह बात कही। 

राजधानी में मंगलवार को आयोजित समारोह में डॉ सिंह ने कहा, मैं ऐसा प्रधानमंत्री नहीं था जो प्रेस से बात करने से डरता था। मैंने नियमित रूप से पत्रकारों से मुलाकात की। विदेश यात्राओं के दौरान मुलाकातें कीं। विमान से वापसी के दौरान भी प्रेस कॉन्फ्रेंस होती थी। भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर रह चुके डॉ सिंह ने केन्द्रीय बैंक और केन्द्र सरकार के संबंधों के बारे में कहा कि रिजर्व बैंक और सरकार का संबंध पति-पत्नी के संबंध की तरह है। दोनों के बीच मतभेदों को निपटाना जरूरी होता है ताकि दोनों सामंजस्य के साथ काम कर सकें। उन्होंने यह बात ऐसे समय कही है जब विभिन्न मुद्दों को लेकर केन्द्रीय बैंक तथा वित्त मंत्रालय के बीच मतभेदों की चर्चा के बीच उर्जित पटेल ने आरबीआई के गवर्नर पद से इस्तीफा दे दिया।