मंडी की आभार रैली

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने मंडी में आयोजित आभार रैली में भाजपा कार्यकर्ताओं के प्रति आभार प्रकट करते हुए कहा कि राहुल गांधी ने जिस तरह से पूरी चुनावी कैंपेन में नरेंद्र मोदी के खिलाफ चोर के नारे का इस्तेमाल किया है उसी से ही कांग्रेस को सबसे ज्यादा नुकसान उठाना पड़ा। जितनी बार वह बोलते गए, मोदी के पक्ष में लोग जुटते गए। लोगों ने यह वोट पीएम मोदी की ईमानदार छवि और कांग्रेस की भ्रष्ट नीति के खिलाफ दिया। मोदी देश की जरूरत थी और हमारी भी मोदी जरूरत थे। यह मुद्दा देश के मतदाताओं को भा गया। उन्होंने कहा कि इस बार लोगों ने बीजेपी को उम्मीद से ज्यादा वोट दिए हैं। इसकी कल्पना उन्होंने नहीं की थी, लेकिन अब यह ऐतिहासिक जीत दर्ज हो गई है जो आने वाले समय में चर्चा का विषय बनी रहेगी। भाजपा के कार्यकर्ताओं का मंडी में जश्न मनाना जायज बनता है। सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि उन्हें चुनावी कैंपेन के दौरान ही यह आभास हो गया था कि इस बार जीत का अंतर ज्यादा रहेगा। उन्होंने कहा कि जहां-जहां चुनाव के दौरान उनका जाना हुआ उन्हें लोग आते हुए जोश में दिखाई दिए और जाते हुए भी, जिससे स्पष्ट हो गया कि भाजपा नया इतिहास रचेगी। प्रदेश की चारों सीटों को जीत कर भाजपा ने सचमुच ही रिकॉर्ड स्थापित किया है। उन्होंने कहा कि सभी 68 विधानसभा क्षेत्रों में भाजपा को लीड मिली है, यह भी अपने आप में रिकॉर्ड है। 23 मई को चुनाव परिणाम निकलने से पहले विपक्ष के नेताओं ने ईवीएम को कोसना शुरू कर दिया था, लेकिन अब परिणाम निकलने के बाद उनका बोलना बंद हो गया। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस यदि छत्तीसगढ़, एमपी, राजस्थान में जीती तो ईवीएम खराब नहीं थी, मगर जब देश भाजपा को वोट देता है तो ईवीएम खराब हो जाती है। उन्होंने कहा कि रोहड़ू में चुनाव के दौरान सबसे बड़ी रैली आयोजित की गई। उससे ही पता चल गया था कि शिमला की सीट भी भाजपा ही जीतेगी। वीरभद्र से जब पूछा गया था कि कांग्रेस की इतनी बड़ी हार क्यों हुई तो उन्होंने कहा कि यह शोध का विषय है। सचमुच ही भाजपा की जीत शोध का विषय कांग्रेस के लिए बना रहेगा। उन्होंने मतदाताओं का आभार व्यक्त करते हुए पंडित सुखराम और अनिल शर्मा की, की गई गलतियों का खूब एहसास करवा दिया। यह भी बता दिया कि नए दौर की राजनीति में वह इसमें किसी से भी कम नहीं हैं। उन्होंने यह भी बताने की चेष्टा की कि सुखराम परिवार को उनके गढ़ और बूथ में भी उन्हें जीत नहीं मिल पाई है। सीएम ने दोहराया कि सुखराम परिवार हमेशा कहता था कि मंडी में ही भाजपा उनके दम पर जीतती रही है, लेकिन इस बार लोगों ने पाठ पढ़ा दिया है कि भाजपा अपने दम पर भी यहां से जीत सकती है। उन्होंने इस जीत का श्रेय खुद न लेते हुए सारा का सारा क्रेडिट पीएम नरेंद्र मोदी को दे दिया। हालांकि इस आभार रैली में उनका रुख वीरभद्र के प्रति नरम रहा, लेकिन सुखराम परिवार को उन्होंने खरी-खोटी सुनाने में कोई चूक नहीं की।

धरातल की सच्चाई भी यही है कि लोकसभा चुनावों में मतदाता ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के व्यक्तित्व और कार्यशाली से प्रभावित हो कर ही मतदान किया। हिमाचल प्रदेश में 70 प्रतिशत मतदान होना लोगों की जागरुकता का भी प्रमाण है। चार की चार लोकसभा सीटों में लाखों मतों के अंतर से भाजपा उम्मीदवारों की जीत जहां हिमाचल प्रदेश की राजनीति में जयराम ठाकुर के स्थापित होने का प्रमाण है वहीं वीरभद्र सिंह और पं. सुखराम युग के अंत का भी संदेश है।

हिमाचल प्रदेश में भाजपा अपनी बागडोर नई पीढ़ी को संभालने में सफल हो गई है और कांग्रेस अभी आंतरिक कलह में ही उलझी दिखाई दे रही है। हिमाचल प्रदेश की जनता नकारात्मक विचारों को छोड़ सकारात्मक सोच को प्राथमिकता देती है। इस बात को समझ कांग्रेस अपनी भावी रणनीति बनाये तो यही बात उसके लिए अच्छी रहेगी। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर स्वयं सकारात्मक सोच वाले हैं यह बात मंडी में आयोजित आभार रैली में एक बार पुन: साबित हो गई है। भाजपा कार्यकर्ता और प्रधानमंत्री मोदी को प्रदेश में मिली ऐतिहासिक विजय के लिए सारा श्रेय दिया जाना मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की विनम्रता व सकारात्मक सोच को ही तो दर्शाता है।  

   

-इरविन खन्ना, मुख्य संपादक, दैनिक उत्तम हिन्दू।