निष्क्रिय पदाधिकारियों को कांग्रेस संगठन में नहीं मिलेगी जगह : कुलदीप

शिमला (पी.सी.लोहमी) - कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने कहा है कि लोकसभा चुनावों में निष्क्रिय पदाधिकारियों को संगठन में स्थान नहीं मिलना चाहिए। इसे लेकर कांग्रेस हाइकमान के निर्णय लेने के बाद ही आगामी कदम उठाएंगे। लोकसभा चुनावों को लेकर पार्टी हाइकमान को रिपोर्ट सौंप दी है। वहीं हाईकमान ने भी अपने स्तर पर रिपोर्ट तैयार की है। वह सोमवार को शिमला में पत्रकार वार्ता को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने बंजार में हुए बस हादसे के लिए परिवहन मंत्री से नैतिकता के आधार पर त्यागपत्र की भी मांग की।

उन्होंने हैरानी जताई कि बंजार दुर्घटना में 42 सीटर बस में 45 लोगों की मौत हुई। यदि किसी दूसरे देश मे ऐसी घटना होती तो प्रशासन सड़कों पर होता और जि मेदार लोगों से इस्तीफे मांग लिए जाते। उन्होंने कहा कि परिवहन मंत्री को नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे देना चाहिए था, लेकिन  इनके उलट परिवहन मंत्री बस मालिक को क्लीन चिट दे रहे हैं। राठौर ने कहा कि सीएम ने न्यायिक जांच के आदेश दिए लेकिन मंत्री क्लीन चिट दे चुके हैं और बस ऑपरेटर को बचाने के प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि बस चालक को तीन रुट दिए हैं जहाँ बसें खचाखच भरी रहती हैं। राज्य में जेएनयूआरएम के तहत निगम को 701 बसें मिली थी, जिसमें से 317 बसें खड़ी हैं। अकेले 40 बसें कुल्लू डिपू की खड़ी ंहैं। साथ ही 25 इलैक्ट्रिक बसें भी खड़ी हैं।

 सरकार बताएं कि यह बसें क्यों खड़ी हैं। आखिर उन बसों का प्रयोग क्यों नहीं किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि परिवहन मंत्री के बयान विरोधाभासी हैं। एक ओर मंत्री कह रहे है कि कर्ज लेकर बसें लेने की आवश्यकता नहीं थी, लेकिन अब नई बसों को खरीदने की बात कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज तक नूरपुर बस हादसे की जांच रिपोर्ट भी सार्वजनिक नहीं की गई तो फिर इस जांच का क्या औचित्य रह जायेगा। हादसों के बाद जांच पड़ताल के नाम पर थोड़े दिन आम लोगों को परेशान किया जाएगा।

उन्होंने सरकार से ब्लैक स्पॉट चिंहित कर  क्रेश बैरियर लगाने तथा खस्ताहाल सड़कों की दशा को सुधारने की मांग की। राठौर ने आगे कहा कि मुख्यमंत्री के चुनाव क्षेत्र के बीएलओ ने बताया कि दुर्घटना ग्रस्त  बस ऐसी सड़कों पर चलाई जा रही हैं जहां खचरें भी नहीं चल सकती। हादसे में घायल लोगों के उपचार के समय बंजार अस्पताल में प्राथमिक केंद्र में उपचार तक उपलब्ध नहीं करवाया। बंजार अस्पताल में लाइट नहीं थी और मोबाइल की रोशनी में फस्र्ट एड दी गई। हेली ए बुलेंस की बात भी हवा हवाई है। हेलीकॉप्टर था लेकिन घायलों के लिए उपयोग नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि घायलों को कम से कम 50 हजार रुपये की राहत राशि तथा अनाथ हुए बच्चों का भरण पोषण सरकार करे। कुलदीप राठौर ने कहा कि सेब बाहुल क्षेत्र में स्कैब की बीमारी फैलने लग गई है। 1983 में भी फैला था जिस पर काबू पा लिया गया। इसकी दवाई बहुत महंगी है इसलिए सरकार फंगीसाइड को बागवानों को सब्सिडी पर उपलब्ध करवाए।

राठौर ने कहा कि भाजपा ने जीत के बाद पूरे प्रदेश को बड़े होर्डिंग बेनर से पाट दिया है। प्रदेश सरकार जनता को बताएं कि क्या ये होर्डिग भाजपा ने अपने पैसे से लगाए हैं या फि र सरकारी खर्च से लगाए हैं। इसको लेकर सरकार स्थिति स्पष्ट करें और खर्च का ब्योरा दें तथा बताए कि कहां और कितने समय के लिए लगाएं है।