किशनगंज थानाध्यक्ष हत्या मामला : बेटे का शव देखते ही मां ने भी त्यागे प्राण, शहीद को भीड़ में छोड़कर भागने वाले 7 पुलिसकर्मी सस्पेंड

किशनगंज (उत्तम हिन्दू न्यूज) : बिहार के किशनगंज टाउन थानेदार अश्विनी कुमार की वीभत्स मॉब लिंचिंग के बाद उनके घर में फिर से मातम पसर गया है। थानेदार अश्विनी कुमार का पार्थिव शरीर जब उनके घर पहुंचा तो उनकी मां इस दुख को बर्दाश्त नहीं कर पाईं। बेटे का शव देखते ही मां ने भी अपने प्राण त्याग दिए। इसके बाद पूरे इलाके का माहौल गमगीन हो गया। एक साथ शहीद थानेदार अश्विनी कुमार के घर से दो अर्थियां उठीं।

इस घटना से परिजनों में जबरदस्त आक्रोश है। परिजनों का आरोप है कि साजिश के तहत थानेदार की हत्या की गई। उनका कहना है कि थानाध्यक्ष के साथ गए पुलिस पदाधिकारी और पुलिस बल अगर वहां मौजूद रहकर एक भी गोली चला देते तो शायद भीड़ के चंगुल से अश्विनी कुमार की जान बच जाती।

First slide

वहीं इस मामले में मौके से जान बचाकर भागने वाले सात पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है। आधिकारिक सूत्रों ने रविवार को बताया कि पूर्णिया क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि लूटी गई मोटरसाइकिल की बारमदगी एवं अभियुक्त की गिरफ्तारी के लिए किशनगंज नगर थानाध्यक्ष अश्विनी कुमार के नेतृत्व में एक टीम शनिवार तड़के सीमावर्ती राज्य पश्चिम बंगाल में ग्वालपोखर थाना क्षेत्र के पंतापाड़ा गांव गई थी। इस टीम में पुलिस निरीक्षक मनीष कुमार के साथ ही सिपाही राजू सहनी, अखिलेश्वर तिवारी, प्रमोद कुमार पासवान, उज्ज्वल कुमार पासवान, सुनील चौधरी और सुशील कुमार शामिल थे।

kishanganj.

अभियुक्त के रिश्तेदार समेत करीब 500 लोगों ने छापेमारी दल पर हमला कर दिया। भीड़ ने पुलिस निरीक्षक अश्विनी कुमार को पकड़ लिया और उनकी पीट-पीटकर हत्या कर दी। वहीं, छापेमारी दल में शामिल अन्य सात सदस्य मौके से जान बचाकर भाग गए। यदि इन पुलिसकर्मियों ने अपने कर्तव्य का निर्वहन विवेकपूर्ण ढंग से किया होता तो संभवत: यह घटना नहीं घटित हुई होती। इस वारदात में प्रथमदृष्टया इन सात पुलिसकर्मियों की लापरवाही परिलक्षित होती है।

सूत्रों ने बताया कि पुलिस महानिरीक्षक ने किशनगंज के पुलिस अधीक्षक कुमार आशीष की अनुशंसा पर इस लापरवाही के लिए पुलिस निरीक्षक मनीष कुमार के साथ ही सिपाही राजू सहनी, अखिलेश्वर तिवारी, प्रमोद कुमार पासवान, उज्ज्वल कुमार पासवान, सुनील चौधरी और सुशील कुमार को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है।