कार्ति चिदम्बरम को विदेश जाने की मिली अनुमति

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज) : पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदम्बरम के पुत्र कार्ति चिदम्बरम को 20 से 30 सितम्बर तक विदेश जाने की अनुमति मिल गयी है।मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर और न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ की पीठ ने एयरसेल-मैक्सिस करार मामले के आरोपी कार्ति को 20 से 30 सितम्बर तक विदेश जाने की आज अनुमति प्रदान की।

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने कार्ति के विदेश जाने का विरोध किया, लेकिन शीर्ष अदालत ने जूनियर चिदम्बरम को इसकी अनुमति दे दी। कार्ति ने अपनी बेटी के नामांकन के लिए विदेश जाने की इजाजत मांगी थी।

गौरतलब है कि साल 2006 में एयरसेल-मैक्सिस करार के तहत विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड (एफआईपीबी) की मंजूरी के मामले की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो और ईडी कर रहे हैं। उस समय श्री पी चिदम्बरम केंद्रीय वित्त मंत्री थे। सीनियर चिदम्बरम पर आरोप है कि उन्होंने अपने बेटे के कहने पर एयरसेल-मैक्सिस को एफडीआई की मंजूरी प्रदान की थी और इसके लिए आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति को नजरअंदाज कर दिया था।