मोदी से सैटिंग कर पंजाब के साथ दगा कर रहे कै. अमरिन्दर सिंह : चीमा

चंडीगढ़ (प्रेम विज): आम आदमी पार्टी (आप) के नेता हरपाल सिंह चीमा ने जारी एक बयान में अमरिन्दर सिंह सरकार की ओर से अति महत्वपूर्ण और पंजाब के भविष्य के साथ जुड़े कृषि विरोधी केंद्रीय काले कानूनों के विरुद्ध पंजाब विधानसभा में पेश किए जाने वाले बिल को पेश होने तक गुप्त रखने के पीछे बड़ी साजिश के दोष लगाए।

चीमा ने कहा कि अमरिन्दर सिंह एक बार फिर पानियों के बारे में समझौते (पंजाब वाटर ट्रमीनेशन लॉ आफ एग्रीमैंट एक्ट-2004) की तर्ज पर पंजाब और पंजाब के किसानों के साथ फरेब करने की तैयारी में हैं। जैसे तत्कालीन मनमोहन सरकार के साथ मिलकर अमरिन्दर सिंह ने पानी रद्द करने वाले फर्जी एक्ट के साथ फोकी वाह-वाही तो कमा ली परंतु उस एक्ट का पंजाब को रत्ती भर भी लाभ नहीं हुआ और न ही वह एक्ट सुप्रीम कोर्ट तक टिक सका। चीमा ने कहा कि अमरिन्दर सिंह ने उसी तरह की गांठ-सांठ अब मोदी सरकार के साथ करके उसी तर्ज पर यह बिल पेश किया जा रहा, जिससे अंत को यह बिल मोदी सरकार के हक में भुगते। 

यही कारण है कि बिल के खरड़े की शब्दावली को बिल सदन की मेज पर रखे जाने तक गुप्त रखा जा रहा है, जबकि चाहिए यह था कि इस बिल के खरड़े को  पास करने से पहले विरोधी पक्ष के नुमाइंदों समेत किसान जत्थेबंदियों और अन्य खेती और कानूनी माहिरों को 15 दिन पहले भेजी जाती (जैसे कि विधान सभा की नियमावली कहती है) जिससे सभी अपनी अपनी राए देते और सिक्केबंद कानून बनता, जो हर चुनौती पर फतेह हासिल कर पंजाब और पंजाब के किसानों का भविष्य सुरक्षित करता।