परीक्षा की जानकारी बार-बार बदलने से विद्यार्थियों में फैली दुविधाः जगदीप सिंह

04:47 PM Jul 07, 2020 |

आरोप लगाया कि कुछ प्रिंसिपल सारे स्टाफ को बुला रहे हैं कॉलेज
सरकार कालेजों की परीक्षा और दाखिले की नई और स्पष्ट जानकारी प्रदान करें

जालंधर (सौरभ खन्ना)- प्राइवेट कालेज नान-टीचिंग इम्पलाइज यूनियन पंजाब (एडिड और नॉन-एडिड) के जनरल सेक्रेटरी जगदीप सिंह ने बताया कि पिछले समय यूजीसी ने अन्तिम कक्षाओं की परीक्षा करवाने के लिए यूनिवर्सिटियों को एक नई गाईडलाइन जारी की थी और यह परीक्षा जुलाई के पहले सप्ताह से शुरू करने के लिए कहा गया था। लेकिन बाद में इसको फिर से रद्द कर दिया गया और अब यह परीक्षा सितंबर में करवाने के लिए कहा जा रहा है। जिस कारण विद्याथियों को उनकी परीक्षा होने या न होने के बारे में कोई स्पष्ट जानकारी नहीं मिल रही है और उनको आगे भी कोई रास्ता नजर नहीं आ रहा है। इसी तरह ही कालेजों का स्टाफ भी कोई स्पष्ट जानकारी न होने के कारण परेशान है। जगदीप सिंह ने बताया कि पंजाब सरकार ने कालेजों और कार्यालयों में 33 प्रतिशत स्टाफ के साथ काम करने संबंधी हिदायतें जारी की थी, लेकिन देखने में आया है कि कुछ कालेजों के प्रिंसिपल सारे स्टाफ को कालेज में बुला रहे हैं जो कि सही नहीं है। उन्होंने बताया कि कालेजों के खुलने और न खुलने की स्पष्ट जानकारी न होने से स्टाफ भी दुविधा में है।

 

 

यूनियन के कार्यकारी प्रधान भूपिंदर ठाकुर, जनरल सेक्रेटरी जगदीप सिंह और मदन लाल खुल्लर ने एक सांझे बियान में पंजाब सरकार को अपील की है कि कालेजों की परीक्षा और दाखिले की प्रक्रिया के बारे में नई और स्पष्ट जानकारी प्रदान की जाए, क्योंकि विद्यार्थी और पेरेंटस सही जानकारी न होने के कारण चिंताग्रस्त हैं। उन्होंने कहा कि स्टाफ भी दुविधा में है, क्योंकि विद्यार्थी उनको बार-बार अपने पेपरों और रिजल्ट के बारे में पूछ रहे हैं। इसलिए उन्होंने एक सांझे बियान में पंजाब सरकार से अपील की है कि कालेजों के बारे में जल्दी से जल्दी कोई स्पष्ट जानकारी प्रदान करें, ताकि इस दुविधा को दूर किया जा सके।