टाइल्स कारोबार समूह के ठीकानों पर IT का छापा, 220 करोड़ की अघोषित संपति का पता लगाया

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): आयकर विभाग ने तमिलनाडु में एक प्रमुख टाइल्स कारोबारी समूह के यहां छापामारी कर 220 करोड़ रुपए की अघोषित संपति का खुलासा किया है और 8.30 करोड़ रुपए नकद भी जब्त किया है। आयकर विभाग ने चेन्नई स्थित एक जाने-माने व्यावसायिक समूह के ठिकानों पर 26 फरवरी को छापे मारी की। समूह से जुड़े ग्यारह ठिकानों पर छापे मारे गए और नौ स्थानों पर सर्वेक्षण किए गए हैं जो तमिलनाडु, गुजरात और कोलकाता में स्थित हैं।

IT ने टाइल्स निर्माता समूह के ठिकानों पर मारे छापे, 220 करोड़ की बेनामी आय का पता लगाया

यह व्यावसायिक समूह टाइल्स और सैनीटरी वेयर के उत्पादन और विपणन के व्यवसाय से सम्बंधित है और दक्षिण भारत में टाइल्स के व्यवसाय का अग्रणी समूह है। तलाशी अभियान में टाइल्स की बिक्री और खरीद के गैर हिसाबी मामलों का पता चला है। तलाशी दल के प्रयासों के चलते गैर लिखित लेन देन के विवरण सामने आए हैं जो खुफिया कार्यालय और क्लाउड से संचालित सॉफ्टवेर पर दर्ज थे।

Income tax Raid in chhattisgarh : IT raid on influential people house in  Chhattisgarh Mayor Ejaz Dhebar are also affected

पता चला है कि व्यवसायिक समूह के 50 प्रतिशत के करीब लेन-देन को लेखा पुस्तिका से अलग रखा गया है। पिछले टर्न ओवर को ध्यान में रखते हुए किए गए आंकलन के मुताबिक तकरीबन 120 करोड़ रुपये की आय को छिपाया गया है। यह 100 करोड़ रुपये की अघोषित आय के अतिरिक्त है जिसे व्यावसायिक समूह ने छद्म कंपनियों के माध्यम से शेयर प्रीमियम के रूप में दिखाया था। अब तक 220 करोड़ रुपये की कुल अघोषित आय का पता चला है तथा 8.30 करोड़ रुपये की नक़दी भी बरामद हुई है जिसे विभाग द्वारा ज़ब्त कर लिया गया है।