माता-पिता एवं गुरुजन ही विद्यार्थी के जीवन के अहम पहलू: श्री इरविन खन्ना

एचएमवी कालेजिएट स्कूल में एचीवरज-डे का आयोजन
170 छात्राओं को बोर्ड व स्कूल के विभिन्न पद प्राप्त करने पर पुरस्कार व प्रमाण पत्र प्रदान किए


जालंधर (सौरभ खन्ना)-एचएमवी कालेजिएट सीनियर सेकेंडरी स्कूल के परिसर में शैक्षणिक एवं अशैक्षणिक क्षेत्र में प्राप्त उपलब्धियों के लिए छात्राओं को पुरस्कृत करने हेतु एचीवरज-डे 2021 का आयोजन किया गया। इस उपलक्ष्य में मुख्यातिथि स्वरूप उपस्थित डॉ. वरिन्दर भाटिया, वाइस चेयरमैन पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड एवं विशिष्ट अतिथि श्री इरविन खन्ना (मैंबर लोकल कमेटी एवं दैनिक उत्तम हिन्दू के मुख्य संपादक) का स्वागत प्रिंसिपल प्रो. डॉ. अजय सरीन व मीनाक्षी स्याल द्वारा प्लांटर भेंट कर किया गया। इस दौरान एचीवरज की श्रेणी में लगभग 170 छात्राओं को बोर्ड व स्कूल की गतिविधियों एवं स्कूल की परीक्षाओं में विभिन्न पद प्राप्त करने पर पुरस्कार व प्रमाण पत्र प्रदान किए। इस समारोह में 95 प्रतिशत से अधिक अंक हासिल करने वाली 13 छात्राओं एवं 90 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त करने वाली 50 छात्राओं को सम्मानित किया गया। इसके अलावा 72 छात्राएं जिन्होंने खेलकूद, लोक नृत्य, कुकिंग, मिमिक्री एवं अन्य गतिविधियों में उपलब्धियां प्राप्त की, उन्हें भी सम्मानित किया गया।

डॉ. अजय सरीन ने कहा कि जो शैक्षणिक एवं अशैक्षणिक उपलब्धियां छात्राओं ने प्राप्त की हैं, उन सबके पीछे आपके गुरुजनों एवं माता-पिता का योग्यात्मक सहयोग है जिसे हम एचीवर्ज डे के रूप में मना रहे हैं। उन्होंने छात्राओं को सकारात्मक सोच अपनाते हुए मैं की भावना से बाहर निकल कर अपने जीवन में निरंतर प्रगति के पथ पर अग्रसर रहने को प्रेरितकिया तथा छात्राओं में आर्य बनो अर्थात श्रेष्ठ बनो की भावना का संचार किया। स्कूल कोआर्डिनेटर मीनाक्षी स्याल ने एचएमवी कालेजिएट स्कूल की वार्षिक रिपोर्ट प्रस्तुत की। उन्होंने बताया कि छात्राओं के संपूर्ण विकास के लिए संस्था में शैक्षणिक शिक्षा के साथ-साथ प्रतिभा खोज प्रतियोगिता, भाषण प्रतियोगिता, अक्षय ऊर्जा दिवस, आयाम, टीचर्स डे, मातृ दिवस, खेलकूद से संबंधित प्रतियोगिताएं व आनलाइन वेबिनार करवाए जाते हैं ताकि उनमें आत्मविश्वास कायम किया जा सके। सम्मानीय अतिथि श्री इरविन खन्ना ने डॉ. अजय सरीन, संपूर्ण टीम व पुरस्कृत छात्राओं को बधाई देते हुए कहा कि माता-पिता एवं गुरुजन ही विद्यार्थी के जीवन के अहम पहलू हैं जो उनमें आत्मनिर्भरता, नैतिक मूल्यों एवं संस्कारों का संचार एक बाग के माली की तरह करते हुए उनके जीवन का निर्माण करते हैं। इसलिए उन्हें अपना आदर्श मानें ताकि एक खुशहाल समाज की स्थापना की जा सके। वरिंदर भाटिया ने डीएवी संस्था में बिताए अनुभवों को सांझा करते हुए कहा कि जीवन को चलाने के लिए शारीरिक, मानसिक, आत्मिक एवं सांस्कृतिक ताकत की आवश्यकता है। ये ताकत डीएवी संस्था में ही मौजूद है। उन्होंने कहा कि जीवन में विनम्रता एवं सीखते रहना ही सफलता की कूंजी है। उन्होंने पुरस्कृत छात्राओं को शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर कालेज व कालेजिएट स्कूल के अध्यापक और नान टीचिंग स्टाफ के सदस्य भी उपस्थित रहे।