ईरान विमान हादसा : ब्रिटेन के राजदूत रॉबर्ट मैकेयर गिरफ्तार, अमेरिका ने कही ये बड़ी बात

तेहरान (उत्तम हिन्दू न्यूज) : ईरान में ब्रिटेन के राजदूत रॉब मैकेयर को यहां विरोध प्रदर्शन आयोजित करने और उसमें हिस्सा लेने के कारण शनिवार शाम को गिरफ्तार कर लिया गया।

समाचार एजेंसी तस्निम की रिपोर्ट के मुताबिक तेहरान में अमीरकबीर यूनिवर्सिटी ऑफ टैक्नोलॉजी के बाहर यूक्रेन विमान हादसे के खिलाफ सैकड़ों छात्र विरोध प्रदर्शन कर रहे थे जिसमें मैकेयर भी शामिल हुए। छात्रों ने रैली निकालकर इस हादसे के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की। ब्रिटेन ने इसे अतंरराष्ट्रीय कानून का घोर उल्लंघन बताया है।

यूक्रेन विमान हादसा: ईरान ने ब्रिटेन के राजदूत को गिरफ्तार किया

बता दें कि वह प्रदर्शन में हिस्सा लेने के बाद ब्रिटेन के दूतावास लौट रहे थे। उन्हें उस समय गिरफ्तार किया गया जब वह नाई की दुकान पर बाल कटवाने के लिए रुके थे। 

अमेरिका के विदेश सचिव डोमिनिक राब ने एक बयान में कहा, 'बिना किसी आधार या स्पष्टीकरण के तेहरान में हमारे राजदूत की गिरफ्तारी अंतरराष्ट्रीय कानून का एक घोर उल्लंघन है। ईरान सरकार इस समय उथल-पुथल के माहौल में है। आप तनाव को कम करने और कूटनीतिक रास्ते में आगे बढ़ने के लिए कदम उठा सकता है।'

ईरान के एक अखबार ने ट्विटर पर राजदूत की तस्वीर साझा की थी। वहीं ईरानी मीडिया ने दावा किया है कि मैकेयर सरकार विरोधी प्रदर्शन को बढ़ा रहे थे। ईरान का कहना है कि यूक्रेन इंटरनेशनल एयरलाइंस की फ्लाइट संख्या पीएस752 को उसने गलती से गिरा दिया था। इसे ईरानी सेना ने मानवीय भूल बताया है। 

सेना के कबूलनामे पर ईरानी नागरिक भड़क गए हैं। उन्होंने सेना के महज माफी मांगने को पर्याप्त नहीं मानते हुए दोषियों को कड़ी सजा दिए जाने की मांग की है। बहुत सारे ईरानी नागरिकों ने सोशल मीडिया पर भी अधिकारियों के इस्तीफे मांगते हुए उनकी माफी को खारिज करने वाली पोस्ट लिखी हैं।

वहीं अमेरिका ने तेहरान में कथित तौर पर शासन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान ब्रिटिश राजदूत को हिरासत में लेने के लिए ईरान से माफी मांगने के लिए कहा है।अमेरिकी विदेश विभाग की प्रवक्ता मॉर्गन ओर्टागस ने ट्वीट किया, 'यह विएना संधि का उल्लंघन है, जिसके शासन का उल्लंघन करने का एक कुख्यात इतिहास है। हम ईरान से औपचारिक रूप से ब्रिटेन से अपने अधिकारों का उल्लंघन करने और सभी राजनयिकों के अधिकारों का सम्मान करने के लिए माफी मांग करते हैं।' 

Image result for ईरान विमान हादसा

बता दें कि इस हादसे में क्रू सदस्यों समेत सभी 176 लोग मारे गए थे, जिनमें से ईरान के 82, कनाडा के 63, यूक्रेन के 11, स्वीडन के 10, अफगानिस्तान के चार और ब्रिटेन व जर्मनी के 3-3 नागरिक शामिल थे।

ईरान की अर्द्धसरकारी समाचार एजेंसी इलना के मुताबिक, बहुत सारे ईरानियों ने सवाल उठाया है कि मिसाइल हमले के बाद प्रतिक्रिया को लेकर हाई अलर्ट पर होने के बावजूद सरकार ने देश के एयरस्पेस और तेहरान एयरपोर्ट को बंद क्यों नहीं किया था? एक उदारवादी धार्मिक नेता अली अंसारी ने ईरानी सेना की स्वीकारोक्ति को राष्ट्रीय त्रासदी बताया है।