यूपी में हैवानियत: पिता के हाथ-पैर बांधकर नाबालिग बेटी से ढाई घंटे तक किया गैंगरेप

यूपी (उत्तम हिन्दू न्यूज): उत्तर प्रदेश के धमोरा के पटवाई थाना क्षेत्र में एक सामूहिक दुष्कर्म का मामला सामने आया है। रिपोर्ट के अनुसार तीन युवकों ने भट्ठा मजदूर की झोपड़ी में घुस कर और उसके हाथ-पैर बांधकर उसके सामने ही तमंचे के बल पर मजदूर की 17 साल की बेटी के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। आरोप है कि मामले में भट्ठा मालिक और शहजाद नगर पुलिस ने पीड़ित परिवार को किसी कानूनी पचड़े में न फंसने की सलाह देकर गुमराह किया। पुलिस महकमा परिवार पर ही बयान बदलने और तहरीर न देने की बात कह रहा है।

Image result for Humanity in UP gang rape of minor daughter for two and a half hours by tying fathers arms and legs

पटवाई थाना क्षेत्र का एक ग्रामीण परिवार के साथ शहजादनगर थाना क्षेत्र के एक गांव में ईंट-भट्ठा पर मजदूरी करता है और भट्ठे के करीब ही झोपड़ी बनाकर रहता है। किशोरी के चाचा का ने बताया कि तीन लोगों ने झोपड़ी में घुसकर लड़की के साथ रात 9 बजे से 11.30 तक गलत काम किया है।

Image result for Humanity in UP gang rape of minor daughter for two and a half hours by tying fathers arms and legs

चाचा का आरोप है कि शहजाद नगर थाने के कर्मचारियों ने कार्यवाही और मेडिकल के लिए लड़की को 8-10 दिन थाने में रखने की बात कही। इसके बाद पीड़ित परिवार बिना तहरीर दिए आ गया। एएसपी अरुण कुुमार ने सिंह भी मौके पर जाकर मामले की जानकारी ली। पीड़ित किशोरी के चाचा ने कहा कि भट्ठा मालिक ने भी पुलिस के पचड़े में न फंसने को कहा है, पुलिस वाले भी कह रहे हैं कि कार्यवाही और मेडिकल के लिए आठ से दस दिन तक रुकना पड़ेगा। पीड़िता की मां ने कहा कि पुलिस वाले हमसे आठ-दस दिन रुकने को कह रहे हैं। लड़की को कैसे हम थाने में छोड़ दें।

Related image

एएसपी अरुण कुमार सिंह ने बताया कि महिला उत्पीड़न के मामले में तत्काल रिपोर्ट दर्ज करने के आदेश हैं। घटना में पिता-पुत्री अपना बयान बदल रहे हैं। तहरीर भी नहीं दी है, लड़की मेडिकल के लिए भी तैयार नहीं है। यह आरोप गलत है कि किसी पुलिस वाले ने उनसे ऐसा कहा है कि रिपोर्ट दर्ज कराने के बाद दस दिनों तक थाने में बैठना पड़ेगा। अगर किसी ने ऐसा कहा है तो उसका नाम बताएं। पुलिस अपनी जांच कर रही है। तहरीर मिलने पर रिपोर्ट दर्ज कार्रवाई की जाएगी।