हिमाचल स्टार्टअप युवाओं के लिए रोजगार के मार्ग प्रशस्त करेगा : मुख्यमंत्री

शिमला (उत्तम हिन्दू न्यूज): हिमाचल स्टार्टअप रोज़गार प्राप्त करने के इच्छुक शिक्षित युवाओं को स्वरोजगार का मार्ग प्रशस्त कर उन्हें और युवाओं को रोजगार प्रदान करवाने के लिए सक्षम बनाएगा। स्टार्टअप तथा नवाचार परियोजनाओं को समर्थन प्रदान करने के उद्देश्य से राज्य सरकार उद्यमिता विकसित करने के लिए युवाओुं को हर संभव सहायता प्रदान करेगी। 

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने यह बात आज यहां अपने अधिकारिक आवास ओक ओवर से राज्य के लिए स्टार्ट-अप यात्रा वाहन को हरी झण्डी दिखाकर रवाना करते हुए कही।
मुख्यमंत्री ने कहा कि यह योजना देश के युवाओं के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का एक उपहार है, जो स्टार्टअप के लिए विभिन्न प्रोत्साहन प्रदान करती है, ताकि उद्यमियों को अपने कारोबार में सफलता हासिल करने के लिए सक्षम बनाया जा सके। यह योजना युवाओं को उनके नवाचारों को अगले स्तर तक ले जाने का अवसर प्रदान करती है, जहां वे सही मायने में बदलाव ला सकें। उन्होंने कहा कि यह यात्रा शिमला, सोलन, सिरमौर, हमीरपुर, कांगड़ा, चम्बा, कुल्लू तथा मण्डी जिलों के विभिन्न शिक्षण संस्थानों से होकर गुजरेगी। यात्रा आगामी ३० नवम्बर को आईआईटी मण्डी में सम्पन्न होगी। 

जय राम ठाकुर ने कहा कि योजना में क्षमता निर्माण, नेटवर्किंग विकास, आवश्यक अधोसंरचना स्थापित करना तथा जागरूकता उत्पन्न करने के उद्देश्य से राज्य के मेजबान संस्थानों में इन्क्यूबेशन केन्द्रों के सृजन का प्रावधान है। राज्य में इन्क्यूबेशन केन्द्रों के लिए आईआईटी मण्डी, एनआईटी हमीरपुर, कृषि विश्वविद्यालय पालमपुर, विज्ञान, प्रौद्योगिकी एवं पर्यावरण परिषद, बागवानी विश्वविद्यालय नौणी, बीड़ प्रौद्योगिकी पार्क, हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय, सीएसआईआर पालमपुर तथा जे.पी. विश्वविद्यालय वाकनाघाट को चयनित किया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस योजना का मुख्य उद्देश्य रोजगार तथा स्वरोजगार सृजित करना, उद्यमियों के कौशल का उन्नयन तथा पेशेवर मार्गदर्शन के तहत उन्हें अपनी इकाइयां स्थापित करने के लिए समर्थन प्रदान करना है। योजना निर्माण तथा सेवा क्षेत्रों के संभावित क्षेत्रों में व्यवहार्य परियोजनाओं का चयन करने के लिए उद्यमियों को सहायता प्रदान करना तथा उन्हें स्टार्ट-अप शुरू करने और पेशेवर तरीके से इसका संचालन करने के लिए प्रशिक्षण प्रदान करना है। 

जय राम ठाकुर ने कहा कि तकनीक आधारित नवाचार क्षेत्र, ग्रामीण अधोसंरचना व सुविधाएं, शिल्प, कला, जल व स्वच्छता, नवीनीकरण ऊर्जा, स्वास्थ्य उपचार, क्लीन टैक, कृषि, बागवानी एवं संबद्ध क्षेत्र, खाद्य प्रसंस्करण, परचून, पर्यटन व आतिथ्य सत्कार, मोबाईल, आईटी व बायोटेक्नोलॉजी योजना के मुख्य क्षेत्र हैं, जिनपर बल दिया गया है।

मुख्यमंत्री ने अनुज शर्मा द्वारा विकसित राज्य का पहला स्टार्ट-अप च्लोकलगाए डॉट इनज् का भी शुभारम्भ किया। उद्योग मंत्री बिक्रम सिंह ठाकुर ने भी इस अवसर पर अपने विचार रखे और युवाओं को अपने उद्यम शुरू करने के लिए नवीन विचारों के साथ आगे आने का आग्रह किया। शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्धाज, सांसद राम स्वरूप शर्मा, विधायक विनोद कुमार, हिमफेड के अध्यक्ष गणेश दत्त, अतिरिक्त मुख्य सचिव मनोज कुमार, निदेशक उद्योग हंस राज शर्मा सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

Related Stories: