+

ईमानदारी और कर्तव्य निष्ठा की मिसाल रहे हरिराम धीमान

बद्दी (किशोर ठाकुर) - आजकल हर कोई चाहता है कि उसे सरकारी नौकरी मिल जाए ताकि वह आराम से अपना व अपने परिवार का जीवन यापन कर सके। लेकिन सरकारी नौकरी में रहकर असली सेवा करके लोगों का द
ईमानदारी और कर्तव्य निष्ठा की मिसाल रहे हरिराम धीमान

बद्दी (किशोर ठाकुर) - आजकल हर कोई चाहता है कि उसे सरकारी नौकरी मिल जाए ताकि वह आराम से अपना व अपने परिवार का जीवन यापन कर सके। लेकिन सरकारी नौकरी में रहकर असली सेवा करके लोगों का दिलों पर अमित छाप छोडने वाले कम ही लोग होते हैं। नालागढ़ के चर्चित व्यक्तित्व हरिराम धीमान चालीस साल की सेवा के बाद पंजाब नेशनल बैंक से सेवानिवृत हो गए जो कि इलाके में ईमानदारी व कर्तव्यनिष्ठा तथा सेवा की मिसाल रहे।

मूलत: नालागढ़ उपमंडल के मितियां के रहने वाले धीमान 1 जनवरी 1980 को हरिराम धीमान ने पंजाब नेशनल बैंक में भर्ती होकर लिपिक के रुप में अपना कार्यकाल सिटी ब्यूटीफुल चंडीगढ से शुरु किया था। उसके बाद उन्होने नालागढ़, नाहन, बिलासपुर, मंडी, बददी व दभोटा के अलावा बैंक के प्रधान कार्यालय में आडिट विभाग में काम किया। मार्च 2000 में पीएनबी की बददी शाखा के पहले प्रबंधक बनने का गौरव प्राप्त हुआ।

बैंक में लगभग चालीस साल की लंबी सेवा के बाद वह नालागढ़ ब्रांच से शाखा प्रबंधक के तौर पर सेवानिवृत हुए। उनके स मान में बैंक ने एक स्थानीय होटल में एक समारोह का आयोजन किया वहीं नालागढ़ के लोगों ने उनको रिवर व्यू होटल में सम्मानित किया। हरिराम धीमान जिस भी शाखा में रहे उन्होने अपने काम को नौकरी न समझ कर सेवा ही समझा। बैंक में चाहे काम उनका हो या किसी और सीट का उन्होने कभी नहीं कहा कि यह मेरा काम नहीं है। वह बैंक में न केवल रुटीन का काम तल्लीनता से करते थे बल्कि उपभोगताओं को गाईड भी कर देते थे। 
 

शेयर करें
facebook twitter