फ्रांस ने भारत से किया वादा, राफेल की डिलीवरी पर नहीं पड़ेगा कोरोना संकट का असर

03:13 PM Jun 02, 2020 |

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): कोविड-19 महामारी से का पूरी दुनिया में व्यापक असर देखने को मिल रहा है। इसे देखते हुए संभावना जताई जा रही थी कि फ्रांस से मिलने वाले फाइटर प्लेन राफेल की डिलीवरी में भी देरी हो सकती है, लेकिन आज फ्रांस ने भारत से वादा किया है कि राफेल विमान तय समय पर ही भारत को सौंपे जाएंगे।

जानकारी के मुताबिक, मंगलवार को भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और फ्रांस के सशस्त्र बल के मंत्री फ्लोरेंस के बीच टेलीफोन पर बातचीत हुई। इस दौरान दोनों देशों के बीच कोरोना की स्थिति, क्षेत्रीय सुरक्षा के साथ-साथ भारत और फ्रांस के बीच द्विपक्षीय रक्षा सहयोग को मजबूत करने के लिए आपसी सहमति के मुद्दों पर चर्चा हुई।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, 'हमने COVID-19 महामारी से लड़ने में भारत और फ्रांस के सशस्त्र बलों द्वारा किए गए प्रयासों की भी सराहना की। फ्रांस ने COVID-19 महामारी से उत्पन्न चुनौतियों के बावजूद राफेल विमान की समय पर डिलीवरी सुनिश्चित करने की अपनी प्रतिबद्धता की पुष्टि की है।'

भारत ने फ्रांस के साथ सितंबर 2016 में 36 राफेल लड़ाकू विमानों की खरीद के लिए एक अंतर सरकारी समझौता करीब 58,000 करोड़ रुपये की लागत से किया था। इससे पहले पहले फ्रांस ने कहा था, ''राफेल विमानों के कॉन्ट्रैक्ट का अब तक बिल्कुल सही तरीके से सम्मान किया गया है और वास्तव में अनुबंध के मुताबिक अप्रैल के अंत में फ्रांस में भारतीय वायु सेना को एक नया विमान सौंपा भी गया है।'' रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने 8 अक्टूबर को फ्रांस में एक हवाई अड्डे पर पहला राफेल जेट विमान प्राप्त किया था। 

राजदूत ने कहा था, ''हम भारतीय वायुसेना की पहले चार विमानों को यथाशीघ्र फ्रांस से भारत ले जाने की व्यवस्था करने में मदद कर रहे हैं। इसलिए, यह कयास लगाए जाने के कोई कारण नहीं हैं कि विमानों की आपूर्ति के कार्यक्रम की समयसीमा का पालन नहीं हो पाएगा।''