नहर में नहाने गए चार लोगों की डूबने से मौत

मोगा (दविंदर पाल सिंह) - गर्मियों का मौसम आते ही कई लोग नहरों जाकर नहाने लगते हैं। ये बेहद ही खतरनाक होता है। इसीके चलते राज्य में सोमवार को दो अलग-अलग जगहों पर चार लोगों की मौत हो गई। पहली घटना मोगा में तो दूसरी होशियारपुर में हुई। पहले मामले में धर्मकोट के मोहल्ला जोगिया में उस समय मातम छा गया जब एक नौजवान युवक सहित दो बच्चों के पिता की नहर में डूबने से मृत्यु हो गई।

घटना की जानकारी मिलने पर थाना धर्मकोट के प्रभारी सब इंस्पैक्टर जसविंदर सिंह, सब इंस्पैक्टर जगतार सिंह पुलिस पार्टी सहित तुरंत वहां पहुंचे और रैपिड पुलिस को सूचित किया। जिस पर रैपिड पुलिस के सहायक थानेदार जगतार सिंह तथा सहायक थानेदार सर्बजीत सिंह अन्य पुलिस मुलाजिमों सहित घटना स्थल पर पहुंचे और दोनों शवों को नहर से बाहर निकाला। जानकारी के अनुसार सोमवार बाद दोपहर सूरज (20) धर्मकोट के नजदीकी कस्बा जलालाबाद पूर्वी से गुजरती नहर में नहाने के लिए मक्खन सिंह (28) के साथ गया था तो अचानक सूरज जिसे तैरना नहीं आता था, नहर के तेज बहाव में बहने लगा। जैसे ही उसने चिलाने की आवाजें दी तो उसी समय मक्खन ने नहर में छलांग लगा दी, लेकिन नहर के तेज बहाव में वह भी उसके साथ बह गया।

जिस पर लोगों ने इसकी सूचना पुलिस कंट्रोल रूम को दी। सूचना मिलने पर रैपिड पुलिस वहां पहुंची और उन्होंने लोगों की सहायता से दोनों को बाहर निकाला और मक्खन को तुरंत रैपिड पुलिस की वैन द्वारा अस्पताल पहुंचाया गया, लेकिन वह बच नहीं सका, जबकि दूसरे युवक सूरज को लोगों द्वारा बाहर निकालकर उसके शव को घर ले गए। जानकारी के अनुसार सूरज की अभी शादी नहीं हुई थीं, जबकि मक्खन दो बच्चों का पिता था। थाना प्रभारी सब इंस्पैक्टर जसविंदर सिंह ने बताया कि इस संबंध में वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को सूचित कर दिया गया है। क्योंकि मृतकों के परिजनों द्वारा दोनों युवकों का पोस्टमार्टम करवाने से इंकार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि उक्त मामले की जांच भी की जा रही है। परिजनों के बयान दर्ज करने के बाद अग्रिम कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।