पूर्व मुख्यमंत्री ने अपनी ही भाजपा सरकार को घेरा

कांगड़ा (रितेश ग्रोवर): भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं पूर्व सांसद, शांता कुमार ने कहा है कि स्वास्थ्य विभाग में भ्रष्टाचार का मामला बहुत ही शर्मनाक है। उन्होने कहा कि पूरा देश कोरोना से छटपटा रहा है और प्रदेश में भी और देश में भी रोगियों की संख्या प्रतिदिन बढ़ रही है। उन्होने कहा कि प्रदेश में कोरोना से मुकाबला करने के लिए एक मनरेगा मजदूर विद्या देवी पांच हजार रुपए योगदान करती है दूसरी तरफ उस पैसे से कोरोना उपचार की सामग्री खरीदने में एक अधिकारी भ्रष्टाचार करता है। उन्होने कहा कि यह सुन कर ही दिल दहल जाता है और शर्म से सिर झुक जाता है।

भ्रष्टाचार से पूरा प्रदेश आहत है जबकि सोशल मीडिया और अखवारों में बहुत चर्चा हो रही है। उन्होने विपक्ष के नेताओं से आग्रह किया है कि इस में राजनीति न करे। हमारी सरकार और मुख्यमंत्नी जयराम ठाकुर पूरी जांच करके न्याय दिलवायेंगे।  शान्ता कुमार ने जयराम ठाकुर मुख्यमंत्री से आग्रह किया है कि आज की परिस्थिति में यह भ्रष्टाचार सामान्य भ्रष्टाचार नहीं है। यह अपराध ही नहीं एक महा-पाप है। यदि वे उचित समङो तो कुछ प्रमुख योग्य और ईमानदार अधिकारियों की एक संयुक्त जांच समिति नियुक्त करके अतिषीघ्र दोशियों को सजा दिलाएं। विश्वविद्यालयों की डिग्रियां वेचने के अपराध से ही हिमाचल प्रदेश बदनाम हो चुका है। अब कोरोना उपचार सामग्री खरीद में भी भ्रष्टाचार का यह समाचार प्रदेश को कलंकित कर देगा।