+

लाहौल में आई बाढ़, मां-बेटे समेत 14 लापता- किन्नौर में बादल फटा, 400 से ज्यादा सड़कें बंद

शिमला (उत्तम हिन्दू न्यूज): रेड अलर्ट के बीच हिमाचल प्रदेश में मंगलवार रात से जारी भारी बारिश ने तबाही मचा दी है। प्रदेश भर में 14 लोग लापता हो गए हैं। लाहौल स्पीति के तोजिंग नाले
लाहौल में आई बाढ़, मां-बेटे समेत 14 लापता- किन्नौर में बादल फटा, 400 से ज्यादा सड़कें बंद

शिमला (उत्तम हिन्दू न्यूज): रेड अलर्ट के बीच हिमाचल प्रदेश में मंगलवार रात से जारी भारी बारिश ने तबाही मचा दी है। प्रदेश भर में 14 लोग लापता हो गए हैं। लाहौल स्पीति के तोजिंग नाले में आई बाढ़ से 10 लोग लापता हो गए हैं। कुल्लू जिला में 25 वर्षीय महिला अपने चार वर्षीय बच्चे के साथ पार्वती नदी में बह गई है। इसके अलावा कुल्लू में दिल्ली की एक पर्यटक महिला और एक स्थानीय व्यक्ति भी लापता है। किन्नौर में बादल फटने से भारी नुकसान हुआ है।

शिमला-कालका नेशनल हाइवे जगह-जगह भूस्खलन से बंद हो गया है। इस मार्ग पर वाहनों की आवाजाही ठप हो गई है। हमीरपुर की पटेरा पंचायत के पास सड़क पर बस पलट गई हालांकि सभी यात्री सुरक्षित बताए जा रहे हैं। मंगलवार रात से बुधवार सुबह आठ बजे तक प्रदेश में सबसे अधिक बारिश धर्मशाला में 101 मिलीमीटर रिकार्ड हुई। राजधानी शिमला में भी कई जगह भूस्खलन होने से गाड़ियां दब गई हैं। प्रदेश भर में सैकड़ों सड़क मार्गों पर वाहनों की आवाजाही ठप पड़ गई है।

राजधानी शिमला में शहर में मंगलवार रात से जारी बारिश से भारी नुकसान हुआ है। कई गाड़ियां मलबे में दब गई है। रास्ते बंद है। पानी की सप्लाई भी बंद हो गई है। किन्नौर जिले में बादल फट गया है, जिससे लोगों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं, मंडी-कुल्लू का संपर्क पूरी तरह से कट गया है। औट और कटौला मार्ग भारी बारिश के चलते जगह-जगह पर बाधित हुआ है।

किन्नौर जिले के सांगला तहसील के रक्षम गांव के नजदीक सुबह नाले में बादल फट गया है। जिसके कारण सेब के बगीचे नुकसान होने की सूचना है। सांगला वैली में बटसेरी के बाद एक बार फिर रक्षम में बादल फटने से लोग परेशानी में पहुंच गए हैं। बादल फटने की सूचना पूर्व प्रधान रक्षम टीकम नेगी ने दी है। वहीं, मंडी-कुल्लू का संपर्क पूरी तरह से कट गया है। औट और कटौला मार्ग भारी बारिश के कारण जगह-जगह पर बाधित हुआ है। लाहौल के लिए रवाना हुई एनडीआरएफ की टीम के व्हीकल्स भी फंस गए हैं। 

कुल्लू जिले में भी बारिश का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। बुधवार सुबह करीब 6:15 बजे मणिकर्ण घाटी की ब्रह्म गंगा नदी में भारी बारिश के चलते बाढ़ आ गई। जिसमें एक महिला और उसका बच्चा बह गया है। ब्रह्मगंगा नदी में सुबह के समय में आई बाढ़ से अफरा-तफरी मच गई। लोग अपनी जान बचाने के लिए इधर-उधर भागे। 

छोटी सी इस नदी ने बारिश के चलते विकराल रूप धारण कर लिया। इसके साथ ही पानी कई घरों में भी घुस गया। स्थानीय वार्ड पंच उमा देवी ने कहा कि बाढ़ में बच्चा व महिला बह गए हैं। उपायुक्त आशुतोष गर्ग ने कहा कि भारी बारिश की आशंका के चलते लोगों को नदी नालों से दूर रहने को कहा गया है। जिला आपदा प्रबंधन की टीम को भी सतर्क रखा गया है।

चंबा जिले में मूसलाधार बारिश ने कहर बरपा कर दिया है। भरमौर पठानकोट एनएच पर चमडोली के पास देर रात मलबे की जद में आकर बहे युवक का सुराग नहीं लग पाया है। पुलिस, अग्निशमन और ग्रामीण युवक की तलाश में जुटे हुए हैं। एनएच केरु पहाड़, खड़ामुख के पास बाधित रहा। चंबा में भारी बारिश से 26 मार्गों पर यातायात व्यवस्था ठप पड़ी हुई है। वहीं, बुधवार सुबह घटासनी के पास पहाड़ी से पत्थर गिरने से ऑल्टो कार क्षतिग्रस्त हो गई। पहाड़ी से पत्थर गिरते देख गाड़ी में सवार लोगों ने भाग कर जान बचाई। प्रदेश में अब तक 400 से ज्यादा सड़कें बंद हो गई हैं।

शेयर करें
facebook twitter