Saturday, February 16, 2019 02:45 PM

गिरफ्तार पांचों माओवादी विचारक 17 सितंबर तक रहेंगे नजरबंद 

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज) : महाराष्ट्र पुलिस के द्वारा गिरफ्तार किए गए पांच माओवादी विचारकों को फिलहाल 17 सितंबर तक नजरबंद रहना होगा। सुप्रीम कोर्ट ने आज यानी बुधवार को अपने महत्वपूर्ण निर्णय में बताया कि इस मामले की अगली सुनवाई अब 17 सितंबर को होगी तबतक के लिए पांचों आरोपी पुलिस के संरक्षण में हाउस अरेस्ट रहेंगे।

आपको बता दें कि पुणे पुलिस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या की साजिश के सिलसिले में देश के छह राज्यों में छापे मारकर पांच माओवादी विचारकों को गिरफ्तार किया था। इन सभी को इसी साल जून में गिरफ्तार किए जा चुके पांच माओवादियों से पूछताछ के आधार पर पकड़ा गया है। सभी पर प्रतिबंधित माओवादी संगठन और नक्सलियों से रिश्ते का आरोप है।

इन माओवादी विचारकों में समाज सेवी सुधा भारद्वाज, साहित्यकार और चिंतक वरवरा राव, समाज सेवी एवं मानवाधिकार कार्यकत्र्ता गौतम नवलखा, मुंबई उच्च न्यायालय के वरिष्ट वकील अरुण परेरा एवं समाज सेवी वर्णन गोंसाल्विस शामिल हैं। इन पांचों आरोपियों को भीमा कोरेगांव हिंसा की जांच के दौरान पुणे पुलिस ने इसी साल जून में पांच लोगों को गिरफ्तार किया कथित माओवादियों की गिरफ्तारी के इनपुट पर गिरफ्तार किया गया था।

सुधीर धवले, वकील सुरेंद्र गाडलिंग, कार्यकर्ता महेश राउत, शोमा सेन और रोना विल्सन को मुंबई, नागपुर एवं दिल्ली से गिरफ्तार किया था। महाराष्ट्र पुलिस का दावा है कि इन कार्यकत्र्ताओं की पूछताछ के क्रम में उक्त चिंतकों का नाम बताया था। 
 

देश की सबसे बड़ी और तेज WhatsApp News Service से जुड़ने के लिए हमारे नंब 7400043000 पर Missed Call दें। इस नंबर को Save करना मत भूलें।