गर्भपात के आरोप में महिला डाक्टर गिरफ्तार

नरवाना/नरेन्द्र जेठी: स्वास्थ्य विभाग की टीम ने सिविल सर्जन जींद डा. पालेराम कटारिया के नेतृत्व में बुधवार शाम शहर की चोपड़ापत्ती के नजदीक पुराने बस स्टैंड रोड पर एक निजी जनरल एवं मैटरनिटी होम पर छापा मार कर महिला डाक्टर को मौके पर ही एक महिला का गर्भपात करते हुए पकड़ा और मौके से गर्भपात की खाली किट भी बरामद की। स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ सिटी पुलिस भी मौजूद रही। बाद में महिला डाक्ह्लड्डह्म् को पूछताछ के लिए टीम अपने साथ ले गई और मैटरनिटी होम को बंद करके उसे सील कर दिया गया। स्वास्थ्य विभाग की इस टीम में डिप्टी सिविल सर्जन डा. पालेराम कटारिया के अलावा डा. दीपक व एडवोकेट विकास देशवाल के अलावा अन्य सदस्य मौजूद रहे। डिप्टी सिविल सर्जन डा. पालेराम कटारिया ने बताया कि जिले में पिछले साल लिंगानुपात की संख्या 938 था लेकिन 2020 में घटकर लिंगानुपात 904 रह गया जिससे विभाग को लगातार यह आभास हो रहा था कि कहीं न कहीं कोई गड़बड़ है और इसलिए विभाग इसके प्रति पूरी सतर्कता बरत रहा था। उन्होंने बताया कि उन्होंने 2 मरीजों से संपर्क किया था जिन्होंने बताया कि नरवाना के चोपड़़ापत्ती के नजदीक स्थित 1 एक निजी जनरल एवं मैटरनिटी होम के डाक्टर  ने उन्हें गर्भपात की दवा दी है। डा. पाले राम ने बताया कि एक महिला का पूर्ण रूप से गर्भपात नहीं हुआ था जिसे महिला डाक्टर ने बुधवार को गर्भपात करने के लिए बुलाया हुआ था जिसका उन्हें पता चल गया और उनकी टीम ने मौके पर पहुंच कर देखा कि महिला डाक्टर ने महिला मरीज को गर्भपात करने के लिए पूरी तैयारी कर रखी थी और टीम ने मौके से गर्भपात के लिए इस्तेमाल की जाने वाली 2 खाली किट भी बरामद की। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मौके से पूरे साक्ष्य एकत्रित किए और बाद में टीम महिला डाक्टर को पूछताछ के लिए अपने साथ ले गई। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने इस मैटरनिटी होम को सील कर दिया। डा. पालेराम कटारिया ने बताया कि महिला डाक्टर के खिलाफ नियमानुसार आवश्यक कानूनी कार्रवाई की जाएगी।