किसानों का फिलहाल बुराड़ी जाने से इंकार, हर रोज सुबह 11 बजे करेंगे बैठक

चंडीगढ़ (उत्तम हिन्दू न्यूज) - तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों ने दिल्ली के बुराड़ी में जाकर प्रदर्शन करने से इंकार कर दिया है। किसान संगठनों की दिल्ली हरियाणा बार्डर सिंघु पर हुई बैठक खत्म हो गई है। बैठक खत्म होने के बाद भारतीय किसान यूनियन पंजाब के महासचिव हरिंदर सिंह ने कहा कि यह फैसला किया गया है कि किसान माैजूदा स्थान पर ही अपना धरना प्रदर्शन जारी रखेंगे। वह कहीं और नहीं जाएंगे और हर रोज 11 बजे अगली रणनीति के लिए बैठक हुआ करेगी। 

किसान आंदोलन पंजाब तक सीमित नहीं, देशभर का सवाल : भाकियू | SamayLive

भाकियू के हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने कहा कि अब यह सिर्फ पंजाब के किसानों आंदोलन नहीं है बल्कि इसमें पूरे देश के किसान शामिल हैं, लेकिन आंदोलन की रणनीति वही होगी जो पंजाब के किसान संगठनों के नेता तय करेंगे। केंद्र सरकार द्वारा लागू नये कृषि कानूनों के विरोध में किसानों का विरोध प्रदर्शन शनिवार को तीसरे दिन जारी था। पंजाब और हरियाणा से आए प्रदर्शनकारी किसान दिल्ली की सीमा पर जुटे हैं और वे नये कृषि कानून को वापस लेने की मांग कर रहे हैं।

किसान आंदोलन पंजाब तक सीमित नहीं, देशभर का सवाल : भाकियू - The Jaisalmer  News


हालांकि दिल्ली के निरंकारी मैदान में कुछ संगठनों के किसान आ चुके हैं। वहीं अभी भी हजारों की संख्या में बॉर्डर पर मौजूद हैं। केंद्र सरकार द्वारा पास किए गए तीन कृषि कानून के खिलाफ ये पूरा विरोध प्रदर्शन चल रहा है। शुक्रवार को टिकरी बॉर्डर और सिंघु बॉर्डर पर जमकर बवाल हुआ, किसानों ने जहां उग्र रूप धारण किया तो वहीं उनको रोकने के लिए पुलिस ने लाठी चार्ज किया और आंसू गैस के गोले दागे गए।
शनिवार सुबह बॉर्डर पर शांति बनी रही। शुक्रवार को किसानों का व्यवहार देख पुलिस ने भी शनिवार को पूरी व्यवस्था और योजना के तहत काम किया। फिलहाल अभी सिंघु बॉर्डर पर शांति बनी हुई है। वहीं किसानों द्वारा लगातार नारे बाजे भी हो रही है।