फिर वार्ता के टेबल पर किसान और सरकार, बात बनने की पूरी उम्मीद 

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज)- तीन कृषि कानूनों को लेकर जारी किसान आंदोलन के बीच आज केंद्र सरकार और किसानों संगठनों के प्रतिनिधियों के बीच आठवें दाैर की वार्ता नई दिल्ली के विज्ञान भवन में शुरू हो गई है। पूरे देश की निगाहें इस वार्ता पर टिकी हैं क्योंकि अभी तक हुई 7 चरणों की वार्ता में कुछ मांगें मान ली गईं लेकिन कुछ नहीं मानी गईं। पिछली बैठक में 2 मांगें मान ली गईं थी लेकिन 2 अभी लंबित हैं। बैठक में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल और सोमप्रकाश मौजूद हैं। 

इससे पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को किसान आंदोलन के मसले पर ट्वीट किया। अरविंद केजरीवाल ने लिखा कि ठंड और बारिश के बीच सड़कों पर डटे हमारे किसानों के हौंसले को सलाम, मेरी केंद्र सरकार से अपील है कि आज की बैठक में किसानों की सारी मांगें मानते हुए तीनों काले कानून वापस लिए जाएं। दरअसल विज्ञान भवन में किसान नेता और सरकार फिर बातचीत की टेबल पर है। किसानों ने MSP पर गारंटी कानून और कृषि कानून वापस लेने की मांग की है। वहीं, सरकार का कहना है कि बातचीत से कुछ हल निकलेगा। सोमवार को हो रही इस बैठक में कुल चालीस किसान संगठन हिस्सा ले रहे हैं। आज सुबह ही कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा था, 'मुझे उम्मीद है कि हम आज एक सकारात्मक समाधान तक पहुंचेंगे। हम इस बैठक में सभी मुद्दों पर चर्चा करेंगे।'