कांग्रेस सरकारों के आर्थिक कुप्रबंधन से बिगड़ी प्रदेश की माली हालत: रणधीर शर्मा

12:53 PM Feb 19, 2020 |

शिमला (ऊषा शर्मा) : भारतीय जनता पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणधीर शर्मा ने आरोप लगाया है कि हिमाचल प्रदेश की आर्थिक स्थिति को बिगाडऩे के लिए कांग्रेस पार्टी की सरकारें जिम्मेदार रही है। उन्होंने मंगलवार को कहा कि इतिहास साक्षी है कि कांग्रेस पार्टी की सरकारों के समय फिजूलखर्ची बड़ी और सरकारों के आर्थिक कुप्रबंधन के कारण हिमाचल प्रदेश में कर्जा लेने की प्रथा शुरू की गई। यह भी सत्य है कि कर्जा लेने में दलाली लेने की संस्कृति भी कांग्रेस सरकारों की ही देन है जिसके कारण हिमाचल प्रदेश की आर्थिक स्थिति को बिगाड़ा गया और आज जो प्रदेश पर कर है वह अधिकतर कांग्रेसी सरकारों के समय लिया गया है, इसलिए इस मुद्दे पर बोलने के लिए कांग्रेस नेताओं को कोई नैतिक अधिकार नहीं है।
रणधीर शर्मा ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकारों के समय हिमाचल प्रदेश की आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए अनेकों प्रयास किए गए है, फिजूल खर्ची को रोका गया है और जो कर्जा लिया भी गया वह प्रदेश के विकास कार्यों पर खर्च हुआ है, इसलिए कांग्रेस नेता इस तरह की तथ्यहीन बयानबाजी करके जनता को गुमराह ना करें और जनता के बीच हास्य का पात्र ना बने।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी के विपक्ष के नेता मुकेश अग्निहोत्री द्वारा वर्तमान मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को एक्सीडेंटल मुख्यमंत्री कहना लोकतंत्र का अपमान है, पिछले विधानसभा चुनावों में भाजपा को 44 सीटों का भारी बहुमत मिला और बहुमत के आधार पर विधायकों ने जयराम ठाकुर को अपना नेता चुना और वह मुख्यमंत्री बने । इसलिए इस प्रकार की टिप्पणी करके विपक्ष के नेता लोकतंत्र को ठेस पहुंचने का कार्य कर रहे हैं जिससे हिमाचल प्रदेश की जनता का अपमान होता है। उन्होंने कहा कि सच तो यह है कि मुकेश अग्निहोत्री एक्सीडेंटल विपक्ष के नेता बने हैं क्योंकि कांग्रेस पार्टी के इतने विधायक चुनकर नहीं आ सके जिससे मुकेश अग्निहोत्री विपक्ष के नेता बनते, वह कांग्रेस विधायक दल के नेता तो कांग्रेसी विधायकों की सहमति से तो बने होंगे परंतु विपक्ष के नेता वह मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की देन से ही बने हैं यह बात उन्हें कभी नहीं भूलनी चाहिए।