स्वच्छ रखने के लिए चलाना होगा ईट इंडिया व फिट इंडिया अभियान: कटारिया

  स्वच्छता में अहम योगदान देने वाली 20 संस्थाओं को किया केंद्रीय मंत्री ने सम्मानित
यमुनानगर/ मेहता
नगर निगम कार्यालय के सभागार में शुक्रवार को स्वच्छता में अहम योगदान देने वाली संस्थाओं के सम्मान में स्वच्छता पखवाड़ा सम्मानित समारोह का आयोजन किया गया। केंद्रीय जल शक्ति राज्यमंत्री, भारत सरकार रतन लाल कटारिया कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे। मेयर मदन चौहान ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की। कार्यक्रम में स्वच्छता में अहम योगदान देने वाली 20 संस्थाओं को मुख्य अतिथि केंद्रीय मंत्री रतन लाल कटारिया व मेयर मदन चौहान ने सम्मानित किया। इनमें वे संस्थाएं भी शामिल है, जिन्होंने स्वयं कूड़ा का निस्तारण कर उससे खाद बनाई। इससे पूर्व मेयर मदन चौहान, आयुक्त धर्मवीर सिंह, संयुक्त आयुक्त बीबी कौशिक व अन्य ने मुख्यअतिथि रतन लाल कटारिया को पुष्प गुच्छ व शॉल ओढ़कर सम्मानित किया।
केंद्रीय मंत्री रतन लाल कटारिया ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मुख्यमंत्री मनोहर लाल के आह्वान पर दो अक्तूबर से 17 अक्तूबर तक स्वच्छता पखवाड़ा मनाया जा रहा है। हमें अपने शहर को स्वच्छ रखने के लिए ईट इंडिया व फिट इंडिया का अभियान चलाना होगा। अर्थात हम अपने भोजन को व्यर्थ जाने नहीं देंगे और इधर उधर सड़े हुए भोजन के ढेर नहीं लगने देंगे। जिससे अनेक बीमारियां उत्पन्न होती है। इसके चलते भारत को बीमारियों की वजह से 15 मीलियन डॉलर का नुकसान उठाना पड़ रहा है। इस दृष्टि से भी हमें स्वच्छता का ध्यान रखना होगा। प्रदू?षण भी हमारे देश में बीमारियों की जड़ बना हुआ है और गंदगी के परिणाम स्वरूप 95 प्रतिशत प्रदू?षण फैल रहा है। हमें अपने वेस्ट मैनेजमेंट सिस्टम को मजबूत करना होगा और स्वच्छता अभियान के माध्यम से हमने पूरे भारत को ओडीएफ (खुले में शौच मुक्त) बनाने की कामयाबी हासिल की है। अब हम स्वच्छ भारत की ओर बढ़ रहे है। दूनिया का कोई ऐसा देश नहीं, जिसने 11 करोड़ शौचालय बनाए हो, ये श्रय भारत देश को ही जाता है। कचरा प्रबंधन में जो गीला और सूखा कूड़ा है, उसके बारे में नगर निगम अच्छी प्रकार से कार्य कर रहा है। मेयर मदन चौहान व आयुक्त धर्मवीर सिंह अपने सभी सहयोगियों व पार्षदों के साथ मिलकर शहर को स्वच्छता में अग्रिम स्थान की ओर ले जा रहे है। मेयर मदन चौहान ने कहा कि नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री बनने के बाद भारत को स्वच्छ बनाने के लिए गांधी जयंती पर स्वच्छता अभियान चलाया। जिसके बाद देशवासियों की मानसिकता बदली है। सभी को अपनी मानसिकता बदलकर स्वच्छ भारत के निर्माण में अपना योगदान देना चाहिए। आयुक्त धर्मवीर सिंह ने मुख्य अतिथि व सभी संस्थाओं के पदाधिकारियों का आभार जताया। मौके पर भाजपा जिला अध्यक्ष राजेश सपरा, कार्यकारी अधिकारी अरूण कुमार, एसई आनंद स्वरूप, सीएसआई अनिल नैन, कार्यालय अधीक्षक प्रदीप कुमार, सहायक हरजिंद्र छत्तवाल,  सभी पार्षद व स्टाफ सदस्य मौजूद रहे।
इन्हें किया गया सम्मानित:
शांति फाउंडेशन से प्रिया अरोड़ा, एक सोच नई सोच से शशि गुप्ता, नेचर फस्ट से मुकेश, नामधारी गुरुद्वारा समिति से चेत सिंह, श्री गणेश इंटरटेनमेंट से पंकज अरोड़ा,माई जिम से प्रभाकर शर्मा, हेल्पिंक हैंडस ग्रुप् से डा. नरेंद्र शाही, ग्रीन लोंस सोसायटी से पुनीत जिंदल, श्रीराम पार्क से राम निवास शर्मा, यंगमैन वेल्फेयर एसोसिएशन से संजीव कुमार, अग्रवाल वैश्य सम्मेलन सभा से महावीर गर्ग, स्वामी रामतीर्थ पार्क से आदित्य चावला, सक्षम जगदीप, सफायर होटल, ज्योति होटल, मधु होटल, पूजा होटल, जीएम कोंटीनेटस, होटल जेके रेजीडेंसी को सम्मानित किया गया।
कोरोना वॉरियर्स की बदोलत कम हुए पॉजीटिव केस, बढ़ा रिकवरी रेट :
केंद्रीय जल शक्ति राज्यमंत्री, भारत सरकार रतन लाल कटारिया ने कहा कि  हमारे जो सफाई कर्मचारी, डॉक्टर, प्रशासनिक अधिकारी व अन्य कोरोना वॉरियर्स है। इनकी बदोलत ही भारत में कोरोना महामारी दिन प्रतिदिन कम होती जा रही है। सितंबर माह तक जहां 25 दिन में कोरोना पॉजीटिव केस डबल हो रहे थे, वहीं, अब 74 दिन में डबल हो रहे है। रिकवरी रेट भी 80 प्रतिशत से ऊपर जा चुका है। मृत्यू दर विश्व में 1.34 पर मीलियन है।
जब तक दवाई नहीं, तब तक ढिलाई नहीं:
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अभी तक कोरोना की कोई वैक्सीन नहीं बनी है। इसलिए प्रधानमंत्री ने आह्वान किया है कि जब तक दवाई नहीं, तब तक ढिलाई नहीं। तब तक कोरोना से बचने के लिए मास्क लगाकर रखें, सोशल डिस्टेंस यानि दो गज की दूरी बनाए रखें। इन नियमों का पालन कर हम इस महामारी से बच सकते है। यह अभियान स्कूलों, कॉलेज, पेट्रोल पंपों, नगर निगमों, जिला परिषदों, पुलिस स्टेशनों, नगर ?परिषदों में चलाया जाए। जहां पर हम बैनर, हॉर्डिंग, पोस्टर आदि माध्यमों से जनता को संदेश दे कि जब तक दवाई नहीं, तब तक ढिलाई नहीं। आज पूरा देश इस महामारी का सामना कर रहा है और भारत सरकार की पूरी कोशिश है कि दो तीन माह के अंदर कोरोना वैक्सिन लाई जाए। हम कोरोना वैक्सिन केवल अपने ही देश के लोगों को नहीं, बल्कि अन्य देशों के लोगों को भी उपलब्ध करवाएंगे।