महिलाओं के कल्याण के लिए समाज सेवा के क्षेत्र में आईं डॉ. ऊमा शर्मा

चंडीगढ़ (विज): मोहाली नगर निगम चुनाव की तैयारियां चल रही हैं और चुनाव लडऩे के इच्छुक उम्मीदवार भी सामने आने लग गए हैं। इस दौरान अलग-अलग वार्डों के निवासियों द्वारा भी अपने मनपसंद उम्मीदवारों को खड़ा करने की तैयारी की जा रही है। डॉ. ऊमा शर्मा भी ऐसा ही एक नाम है जिनको फे•ा 1 (वार्ड नंबर 45) के निवासियों द्वारा चुनाव लडऩे के लिए खड़ा किया है। समाज सेवा में पूरी तरह सक्रिय होने के कारण डॉ. ऊमा शर्मा निवासियों में काफी हरमन प्यारे हैं और निवासियों द्वारा उनको वार्ड नं. 45 से उम्मीदवार बनाया गया है।

यह आम धारणा है कि जब किसी महिला को काऊंसलर चुना जाता है तो सभी सरकारी और अन्य जरूरी कामकाज उस महिला के पति या पुत्र के द्वारा ही करवाए जाते हैं और महिला काऊंसलर घर की चारदीवारी तक ही सीमित रहती है, परन्तु डॉ. ऊमा शर्मा एक समर्थ महिला हैं जो बहुत पढ़े-लिखे होने के साथ-साथ उच्च सरकारी पद से सेवामुक्त हुई हैं और हर काम खुद आगे होकर करती हैं। एक महिला होने के कारण वह महिलाओं की समस्याओं को भी अच्छी तरह समझती हैं।

फाजिल्का जिले में जन्मी डॉ. ऊमा शर्मा 29 साल सूचना एवं लोक संपर्क विभाग, पंजाब में नौकरी करके डिप्टी डायरैक्टर के पद से सेवामुक्त हुई हैं। डिप्टी डायरैक्टर के पद से सेवामुक्त होने के बाद पंजाब केसरी दिल्ली के लिए साढ़े चार साल पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और चंडीगढ़ में ब्यूरो चीफ के तौर पर जिम्मेदारी निभाई है। उनको मोहाली जिले के पहली डी.पी.आर.ओ. बनने का गौरव भी हासिल है।
डॉ. ऊमा शर्मा अपने आप में एक संस्था हैं। वह नारी शक्ति सांस्कृतिक मंच मोहाली के प्रधान, नन्द लाल नूरपुरी फाऊंडेशन के प्रधान, डॉ. गोबिंद राम मैमोरियल सोसाइटी के प्रधान, मालवा वूमैन वैल्फेयर सोसाइटी के चेयरपर्सन, एनएसएस हैल्पलाइन मोहाली के जरनल सचिव, लायंज क्लब चंडीगढ़ किंग्ज के प्रधान, शहीद मैमोरियल सोसायटी असाफवाला, फाजिल्का के कार्यकारिणी सदस्य, पब्लिक रिलेशन कौंसिल ऑफ इंडिया चंडीगढ़ चैप्टर के मैंबर, जबकि डॉ. ऊमा शर्मा सूचना एवं लोक संपर्क ऑफिसर्ज वैलफेयर एसोसिएशन पंजाब 2001-2009 और भारत विकास परिषद् मोहाली की महिला प्रमुख हैं।