+

डॉ. सुरेश सैनी को मिला इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड की ओर से एक्सीलेंस आवार्ड

इन्द्री (अनेजा) : रक्तदान जैसे पुनीत कार्य करने वाले सेना से सेवानिवृत हुए डा.सुरेश सैनी ने 131वीं बार रक्तदान करने एवं रक्तदान को बढ़ावा देने में तत्पर रहते है। इसी कड़ी में उन्हे

इन्द्री (अनेजा) : रक्तदान जैसे पुनीत कार्य करने वाले सेना से सेवानिवृत हुए डा.सुरेश सैनी ने 131वीं बार रक्तदान करने एवं रक्तदान को बढ़ावा देने में तत्पर रहते है। इसी कड़ी में उन्हें इंडिया बुक ऑफ रिकॉडर्स ने एक्सीलैंसी आवार्ड से नवाजा है। जिसे हलके लोगों के खुशी का माहौल बना हुआ है। डॉ. सुरेश सैनी अनेक लोगों की रक्तदान करके मदद कर चुके है। इससे पहले उन्हें वल्र्ड बुक ऑफ रिकॉर्डस से स मानित किया। डॉ़ सुरेश सैनी ने सेना व देश का नाम रोशन किया है। उन्हें ये आवार्ड लगातार निष्काम भावना व देश सेवा के ज्जबे से रक्तदान कर लोगों की मदद करने को दिया गया है।

बता दें कि इन्द्री के वार्ड चार निवासी डॉ. सुरेश सैनी भारतीय सेना में ऑनरेरी कैप्टन के पद से सेवानिवृत्त होकर भी लगातार रक्तदान कर रहे है। उन्होंने अबतक 131वीं बार रक्तदान 223 बार प्लेटलेट्स डोनेट किया हैं। एक्सीलैंसी आवार्ड पहुंचने पर समाजसेवियों ने उनका नागरिक अभिनन्दन कर उन्हें स मानित किया। कुछ समय पहले ही एक विश्वविद्यालय ने सुरेश सैनी को रक्तदान के क्षेत्र में कार्य करने के लिए पीएचडी की मानद उपाधि दी थी। वल्र्ड बुक ऑफ रिकॉर्डस, एशियन बुक ऑफ रिकॉर्डस और इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड ने भी उनके रक्तदान को रिकॉर्ड के रूप में शामिल किया है। सुरेश सैनी ने यहां बताया कि 1986 में उन्होंने पहली बार रक्तदान किया था। डॉ. सुरेश सैनी के पिता सेना से रिटायर्ड अधिकारी चंदगी राम सैनी व माता प्रेम देवी ने पुत्र को आर्शीवार्द दिया और आगे बढऩे की कामना की। वहीं वार्ड चार पार्षद नीलम के पति काका वोहरा, पूर्व पार्षद सुरेश भाटिया, एडवोकेट तरूण मेहता, पुत्री दीपा, दमामद सर्बजीत, समधी काबुल सिंह सैनी, यूके से भतीजा विजयंत सैनी, दिवेश सैनी कनाडा, , पत्नी सरोज, पुत्र पैरी, डि पल, डॉ सुधीर सैनी, सुमन सहित अनेेक लोगों ने उनका जोरदार अभिनंदन किया।

शेयर करें
facebook twitter