पथ विक्रेता सम्मान से करें अपने कामधंधे : शिवराज

भोपाल (उत्तम हिन्दू न्यूज) : मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि उनका हर संभव प्रयास है कि प्रदेश के बेटा-बेटी, भाई-बहन अपने स्वयं के काम-धंधे संचालित करें और सम्मान से जीवन जिएं। यह हो गया तो वह मानेंगे कि उनका मुख्यमंत्री बनना सार्थक हो गया।
 चौहान ने आज यहां मिंटो हाल में 40 हजार ग्रामीण पथ विक्रेताओं को एक साथ दस-दस हजार रुपये के ऋण उपलब्ध कराने के लिए पट्टिका का अनावरण किया। इस अवसर पर वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा, श्रम मंत्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह और अपर मुख्य सचिव ग्रामीण एवं पंचायत विकास मनोज श्रीवास्तव भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शहरी पथ व्रिकेताओं के लिए योजना आरंभ की गई थी। इससे प्रेरणा लेकर कोरोना काल में प्रभावित हुए छोटे कारोबारियों की मदद के लिए प्रदेश में ग्रामीण क्षेत्र के पथ विक्रेताओं के लिए भी योजना आरंभ की गई है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि छोटे स्तर पर संचालित काम-धंधों के लिए पूँजी के साथ-साथ आवश्यक प्रशिक्षण देने की व्यवस्था भी की जा रही है, जिससे पथ विक्रेता अपने कार्य को अधिक कुशलता से संचालित कर सकेंगे, उसमें लगातार विस्तार भी होगा। अब-तक प्रदेश में 1 लाख 41 हजार से अधिक हितग्राहियों के ऋण प्रकरण स्वीकृत किए जा चुके हैं।