जमातियों ने बढ़ाई पंजाब की मुसीबतें, 101 की पहचान-50 प्रतिशत लोग लुधियाना के

चंडीगढ़ (उत्तम हिन्दू न्यूज): पंजाब में कोरोना पॉजिटिव केसों का आंकड़ा बढ़ सकता है। वजह है तब्लीगी जमात से जुड़े लोग। देशभर में कोरोना वायरस के वाहक बने तब्‍लीगी जमात के मरकज में भाग लेने पंजाब से भी लोग गए थे। दिल्‍ली के निजामुद्दीन में हुए तब्‍लीगी मरकज में पंजाब के 12 जिलों से करीब 200 लोग भाग लेने गए थे। अब तक सरकार ने 100 जमातियों को ढूंढ लिया है। आज पुलिस विभाग पंजाब द्वारा 101 लोगों की लिस्ट जारी की गई जिसमें उन जमातियों के नाम है जो 13-15 मार्च को दिल्ली में निजामुद्दीन में होने वाली तब्लीगी जमात में हिस्सा लेने पंजाब के अलग-अलग क्षेत्रों से गए थे। 

हैरानी की बात ये है कि इस लिस्ट में जो जमाती है उसमें 50 प्रतिशत के करीब तो सिर्फ लुधियाना के अलग-अलग एरिया से ही थे। सरकार ने बताया कि अभी तक जिन जमातियों का टैस्ट किया गया है, उनकी प्राथमिक रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। सरकार के मुताबिक पंजाब में तब्लीगी जमातियों की अच्छी-खासी संख्या है। अब कोरोना से जंग में ये लोग पंजाब सरकार और स्‍वास्‍थ्‍य विभाग के लिए मुसीबत बन गए हैं।

Kerala identifies 300 suspected of having attended Tablighi Jamaat ...

राज्यभर के तमाम प्रशासनिक अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए गए हैं कि किसी भी जमाती को बिना टैस्ट के न छोड़ा जाए और पॉजिटिव पाए जाने वालों को आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया जाए। तब्लीगी जमातियों को लेकर पंजाब सरकार पूरी तरह से हरकत में आ चुकी है। स्वास्थ्य सचिव द्वारा जारी ये दिशा-निर्देश राज्य के तमाम डी.सी. और एस.एस.पी. को जारी किए गए हैं। बताया जा रहा है कि अधिकतम जमातियों, जिनकी कोविड-19 की पहली रिपोर्ट पॉजीटिव आएगी, को अस्पताल में आइसोलेशन में भर्ती कर लिया जाएगा।

निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी मरकज में गए लोग पंजाब समेत पूरे देश के लिए चिंता का बड़ा कारण बन गए हैं। पंजाब सरकार ने पहली बार स्पष्ट आंकड़ा पेश किया है कि तब्लीगी मरकज में पंजाब से 200 लोग शामिल हुए थे। दो दिन पहले तक पंजाब सरकार यह आंकड़ा 9 से 15 बता रही थी। शुक्रवार को पंजाब के डीजीपी दिनकर गुप्ता ने बताया कि मरकज में पंजाब से 200 लोगों शामिल हुए थे।

1,000 foreigners in India for Tablighi Jamaat activities, may be ...

वहीं, निजामुद्दीन की घटना को देखते हुए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कठोर कदम उठाते हुए राज्य में हरेक धर्म के समारोह पर रोक लगा दी है। मुख्यमंत्री के इस फैसले के बाद बैसाखी के अवसर पर कोई भी धार्मिक समारोह नहीं हो पाएगा। 

बता दें कि शुक्रवार को मोहाली में ही दो जमाती पॉजीटिव पाए गए हैं। मोहाली के डी.सी. गिरिश दयालन ने बताया कि मोहाली में पॉजीटिव पाए गए दोनों मामलों में कंटोनमैंट जोन बना दिए गए हैं, पारिवारिक सदस्यों को भी इसके लिए जानकारी से अवगत करा दिया गया है। इसी कड़ी में आलमगिर गांव में 10 परिवारों को एकांतवास में भेज दिया गया है। दूसरी ओर मानसा में भी 3 जमातियों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है। 

अकेले शुक्रवार को ही 5 जमातियों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है जिसके बाद मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने डीजीपी को स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि इस साल जनवरी के बाद निजामुद्दीन से लौटे लोगों को चिन्हित करके उन्हें ट्रेस किया जाए और 21 दिन के लिए उन्हें आइसोलेशन में रखा जाए। मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिए कि निजामुद्दीन से पंजाब लौटने वाले लोगों के लिए अलग से टीम गठित की जाए। जोकि उन पर नजर रखे और पूरा ऐहतियाय बरते।