गुटखा पर प्रतिबंध के खिलाफ भूख हड़ताल पर बैठे कैदी की मौत

जौनपुर (उत्तम हिन्दू न्यूज): उत्तर प्रदेश में एक जेल में तंबाकू उत्पादों पर प्रतिबंध लगाए जाने के खिलाफ कैदियों की भूख हड़ताल के बीच एक कैदी की मौत हो गई है। जौनपुर जेल में कैदी सोमवार को गुटखा और पान मसाला पर प्रतिबंध लगाए जाने के खिलाफ भूख हड़ताल कर रहे थे। मंगलवार को एक कैदी की मौत हो गई। अन्य कैदियों ने दावा किया कि उनकी हड़ताल के दौरान उसे पीटा गया था।

जेलर संजय सिंह ने कहा कि कैदी जयराम कुछ समय से बीमार चल रहा था और मंगलवार को उसकी मौत हो गई। जिला अधिकारी अरविंद अलप्पा ने कैदी की मौत की न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं। अलप्पा और पुलिस अधीक्षक विपिन कुमार ने जौनपुर जेल में छापामारी कर वहां सिगरेट, पान मसाला, गुटखा और अन्य प्रतिबंधित चीजें बरामद की थीं, जिसके बाद जेल प्रशासन ने ऐसे पदार्थो पर जेल के अंदर प्रतिबंध लगा दिया था।

सोमवार को कैदियों ने यह कहते हुए भूख हड़ताल शुरू कर दी कि उन्हें खराब खाना दिया जा रहा है। हड़ताल का मुख्य कारण गुटखे पर प्रतिबंध था। कैदियों ने हड़ताल के दौरान नारेबाजी की और जेल के सुरक्षा कर्मियों से हाथापाई भी की। इसी हाथापाई में कथित रूप से जयराम घायल हो गया, जिसे बाद में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां मंगलवार सुबह उसकी मौत हो गई।