कांग्रेस काले कानूनों के खिलाफ किसानों के साथ खड़ी रहेगी: कैप्टन अमरिंदर

पटियाला (उत्तम हिन्दू न्यूज): पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह तथा कांग्रेेस नेता राहुल गांधी ने केन्द्र के काले कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का समर्थन जारी रखने का वादा करते हुये कहा कि वे अपने कदम से पीछे नहीं हटेंगे। कैप्टन सिंह तथा गांधी पंजाब में तीन दिवसीय ‘खेती बचाओ यात्रा’ के अंतिम दिन जिले के सनौर के फ्रांसवाला गांव तथा हरियाणा के बार्डर पर संकल्प लिया कि केंद्र सरकार के घातक खेती कानूनों के साथ प्रभावित होने वाले लोगों की हिमायत में अपने सैद्धांतिक स्टैंड से एक इंच भी पीछे नहीं हटेंगे।

यात्रा में कांग्रेस महासचिव हरीश रावत और पंजाब कांग्रेस के प्रधान सुनील जाखड़ सहित पार्टी के कई नेता भी मौजूद थे । छोटे व्यापारियों, किसानों, आढ़तियों और खेत मज़दूरों के हित दांव पर लगा कर कारपोरेट घरानों के हित साधने में लगे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की निंदा करते हुये इन नेताओं ने कहा कि कि गरीब और गरीब हो रहा और अमीर और अमीर हो रहा है।

गांधी ने कहा कि किसान इन अन्यायकारी और घातक कानूनों के आगे झुकने की बजाय जान दे देंगे। मंडी और खरीद प्रणाली किसान भाईचारे की सुरक्षा ढाल है। ये कानून किसानों को अम्बानी और अडानी के हाथों में बंधुआ मज़दूरों बना देंगे। उन्होंने किसानों को इन कानूनों के खि़लाफ़ आवाज़ बुलंद करने का आग्रह किया जिससे उनको बाद में पछताना न पड़े।

उन्होंने कहा कि यह लड़ाई अकेले पंजाब के लिए नहीं बल्कि समूचे मुल्क के लिए है। उन्होंने चेतावनी दी कि एक बार यह कानून लागू कर दिए गए तो किसान मदद के लिए प्रशासन के पास गुहार लाने लायक भी नहीं रहेंगे। क्या आप चाहते हो कि उपजाउ जमीन पर शॉपिंग मॉल बनाए जाएँ तथा किसान भूख के साथ मरता रहे । कांग्रेस ऐसा होने नहीं देंगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि डकाला और सनौर के इलाके हमेशा ही उनके परिवार और कांग्रेस पार्टी के साथ रहे हैं और अब भी काले खेती कानूनों के मुद्दे पर इन इलाकों के लोग पार्टी के साथ चट्टान की तरह खड़े हैं। समूचे मुल्क के किसान मोदी शासन के खि़लाफ़ एकजुट हो गये हैं । केंद्र सरकार उन किसानों और खेत मज़दूरों को उजाडऩे पर उतारू है जिन्होंने सालों से मुल्क को अनाज पैदा करके दिया और यहाँ तक कि कोविड के संकट समय भी अपनी जि़म्मेदारी निभाने से पीछे नहीं हटे। यही नहीं, केंद्र सरकार सार्वजनिक वितरण प्रणाली, एफ.सी.आई., मंडियों और आढ़तियों को भी ख़त्म करने की कोशिश कर रही है।

कैप्टन सिंह ने कहा कि जब तक यह कानून वापस नहीं लिए जाते, तब तक इनके विरुद्ध पंजाब की जंग जारी रहेगी। उन्होंन किसानों को अपना पूरा समर्थन देते हुये कहा कि यह जंग ‘रोटी’ के लिए है क्योंकि देश की 65 प्रतिशत आबादी कृषि पर निर्भर है। पंजाब मामलों के प्रभारी हरीश रावत ने इस मुश्किल घड़ी में पंजाब आकर किसानों का समर्थन करने के लिए राहुल गांधी का धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि जिस तरह ब्रिटिश साम्राज्य के अत्याचार गांधी परिवार की भावना और आत्मविश्वास को नुकसान पहुंचाने में असफल रहे थे उसी तरह मोदी सरकार ऐसा नहीं कर सकेगी।