कांग्रेस को 23 जून को मिल सकता है स्थायी अध्यक्ष, कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में अंतरिम चुनाव पर मंथन

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के खराब प्रदर्शन की समीक्षा के लिए कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक बुलाई गई। इस बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि पार्टी को नतीजों की समीक्षा करनी होगी। सूत्रों के मुताबिक 23 जून को देश की सबसे पुरानी पार्टी को स्थायी अध्यक्ष मिल सकता है। कांग्रेस में अंतरिम चुनाव का ऐलान हो गया है। कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए 23 जून को वोटिंग होगी। कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने चुनाव की तारीख का ऐलान कर दिया है।

Rahul Gandhi officially resigns as Congress President; says 'thank you' in  open letter

2019 लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद राहुल गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष का पद छोड़ दिया था। इसके बाद उन्हें कई बार मनाने की कोशिश की गई, लेकिन दोबारा कांग्रेस अध्यक्ष बनने के लिए तैयार नहीं हुए। इसके बाद सोनिया गांधी को कांग्रेस का अंतरिम अध्यक्ष बना दिया गया था। अभी भी कांग्रेस की कमान सोनिया के हाथों में है। ऐसे में एक बार फिर वही सवाल दोबारा खड़ा हो रहा है कि क्या राहुल गांधी अभी इस पद को अपनाने के लिए तैयार हैं या नहीं? इससे पहले ही कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में भी ये मुद्दा उठा था, जब बागी नेताओं ने आंतरिक चुनाव की मांग रख दी थी. अब सबसे बड़ी धर्मसंकट में सोनिया गांधी हैं। आज बैठक में सोनिया गांधी ने कहा कि मोदी सरकार कोरोना पर नियंत्रण करने में नाकाम साबित हुई है। ऐसे नाजुक समय में उन्होंने एक बार फिर सर्वदलीय बैठक बुलाने की मांग दोहराई। कोरोना को अप्रत्याशित स्वास्थ्य संकट बताते हुए सोनिया गांधी ने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि वह लोगों की हर संभव मदद करने के लिए आगे आएं।  

Evolve political consensus on national policy to tackle COVID surge: Sonia  Gandhi to Centre- The New Indian Express

फरवरी में चल रहा घमासान फरवरी में तब और बढ़ गया था जब बाग़ी नेताओं के गुट जी-23 ने जम्मू में शांति सम्मेलन का आयोजन किया था। इसके जरिए पार्टी नेतृत्व को संदेश दिया गया था कि वे ग़ुलाम नबी आज़ाद के साथ खड़े हैं। इन बाग़ी नेताओं की ओर से बीते साल कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को चि_ी लिखी गई थी और उसके बाद पार्टी में भूचाल आया था। जी-23 गुट के जो नेता जम्मू पहुंचे, उनमें ग़ुलाम नबी आज़ाद, भूपेंद्र सिंह हुड्डा, कपिल सिब्बल, आनंद शर्मा, राज बब्बर, मनीष तिवारी, विवेक तन्खा सहित कुछ और नेता भी शामिल रहे। हैरानी की बात यह रही कि इन सभी नेताओं ने भगवा पगड़ी पहनी हुई थी।