बरौदा में झूठे वायदे कर लोगों को बरगलाने में जुटी गठबंधन सरकार : भूपेंद्र सिंह हुड्डा

11:03 AM Aug 13, 2020 |

अम्बाला (राजेन्द्र भारद्वाज): पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने बीजेपी-जेजेपी सरकार को आड़े हाथों लिया है। उनका कहना है कि गठबंधन की दोनों पार्टियां आज बरौदा में झूठे वादों का पुलिंदा लेकर घूम रही हैं। 6 साल तक हलके की अनदेखी करने वाली सरकार उपचुनाव में वोट बटोरने के लिए लोगों को बरगलाने में लगी है। जबकि बरौदा की जनता को पता है कि बेमेल गठबंधन की इस सरकार का कोई भविष्य नहीं है। बरोदा के नतीजों के साथ इस सरकार की उल्टी गिनती शुरू हो जाएगी। हुड्डा ने बताया कि बरोदा के 8 गांवों रिंढ़ाना, धनाना, बनवासा, घढ़वाल, भावड़, कहल्पा और कथूरा में जलभराव का मामला विधानसभा की याचिका कमेटी में पहुंच गया है। विधायक जगबीर मलिक, गीता भुक्कल और शकुंतला खटक ने सरपंचों की मांग के बाद ये मुद्दा कमेटी के सामने रखा। इसपर अधिकारियों से जवाब-तलब किया जा रहा है।

कांग्रेस की मांग है कि सरकार फौरन गांववालों को साढ़े 4 हज़ार एकड़ में हुए नुकसान का मुआवज़ा दे। समस्या के स्थाई समाधान के लिए ड्रेन बनवाई जाए। भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि बरोदा को बता है कि गठबंधन के नेता भरोसे लायक नहीं हैं। जो लोग पिछले चुनाव में एक-दूसरे को कोस रहे थे, वहीं आज एक दूसरे की तारीफ में कसीदे पढ़ रहे हैं। जनता ऐसे लोगों का भरोसा नहीं करती जो हर चुनाव में अपनी बात से पलट जाते हैं। इसलिए इस उपचुनाव में लोग बरोदा ही नहीं पूरे हरियाणा में हो घपले घोटालों का हिसाब गठबंधन सरकार से लेंगे। क्योंकि 6 साल से लगातार इस सरकार में एक के बाद एक घोटाले हो रहे हैं। घोटाले इतने बड़े हैं कि लाख कोशिशों के बावजूद सरकार इन्हें दबा नहीं पाई। शराब घोटाले की बात करें तो पूरा प्रदेश इसका गवाह है। लेकिन सरकार ने इसकी जांच हाई कोर्ट के सिटिंग जज, सीबीआई या जेपीसी की तरह विधानसभा की कमेटी से ना करवाकर एसईटी से करवाई है। एसईटी को भी सरकार ने कोई पावर नहीं दी। बुधवार को कांग्रेस ऐसे घोटालों के खिलाफ सडक़ों पर उतरकर प्रदर्शन करेगी।

नेता प्रतिपक्ष ने घोटालों की लंबी लिस्ट मीडिया के सामने रखी। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि मौजूदा सरकार नौकरियां देने की बजाए, नौकरियां छीनने में लगी है। पहले 1983 पीटीआई और अब खेल कोटे से ग्रुप डी में भर्ती हुए 1500 कर्मचारियों को भी नौकरी से निकालने की तैयारी है। लेकिन कांग्रेस कर्मचारियों के साथ खड़ी है और पीटीआई की बहाली के लिए विधानसभा के मॉनसून सत्र में प्राइवेट मेंबर बिल लेकर आएगी। इसकी जिम्मेदारी रोहतक से विधायक भारत भूषण बतरा को सौंपी गई है। सोनीपत दौरे के दौरान नेता प्रतिपक्ष के साथ पूर्व प्रदेशाध्यक्ष धर्मपाल मलिक, पूर्व स्पीकर कुलदीप शर्मा, विधायक जगबीर मलिक, बीबी बतरा, जयवीर वाल्मीकि, गीता भुक्कल, शकुंतला खटक, धर्म सिंह छोक्कर, बलबीर वाल्मीकि, सुरेंद्र पंवार, सुभाष गांगोली, कुलदीप वत्स, राजेंद्र जून, पूर्व विधायक जयतीर्थ दहिया, सुखबीर फरमाणा, वरिष्ठ नेता प्रो. विरेंद्र सिंह, सुरेंद्र शर्मा, प्रदीप सांगवान, सुरेंद्र दहिया व अन्य मुख्य तौर पर मौजूद थे।