अमेरिका में छुपी चीनी साइंटिस्ट ने खोली चीन की पोल, कहा- मुझे चुप कराया.. कर देते हत्या

वाशिंगटन (उत्तम हिन्दू न्यूज); एक प्रमुख चीनी साइंटिस्ट का कहना है कि जब चीन ने कोरोना वायरस के बारे में दुनिया को बताया उससे काफी पहले से चीन को वायरस के बारे में पता था। इस मामले में जानकारी देते हुए साइंटिस्ट डॉ. ली मेंग यान ने कहा कि सुपरवाइजर ने उनकी रिसर्च को भी नजरअंदाज कर दिया जिससे लोगों की जिंदगी बच सकती थी। 

चीन छोड़कर भागीं कोरोना साइंटिस्ट, बोलीं- चुप कराया मुझे, कर देते हत्या

बर के मुताबिक अप्रैल के महीने के आखिर दिनों में ली मेंग यान हॉन्ग कॉन्ग से भागकर अमेरिका चली गईं। ली मेंग हॉन्ग कॉन्ग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ में वायरोलॉजी और इम्यूनोलॉजी की एक्सपर्ट रही हैं। ली ने कहा कि कैंपस से निकलते वक्त उन्होंने बेहद सावधानी बरती ताकि सेंसर और कैमरों की नजर से बच सकें, क्योंकि उन्हें डर था कि अगर पकड़ी गईं तो उन्हें जेल में बंद कर दिया जाएगा या फिर उन्हें 'गायब' भी किया जा सकता है। 

चीन छोड़कर भागीं कोरोना साइंटिस्ट, बोलीं- चुप कराया मुझे, कर देते हत्या


अमेरिकी टीवी चैनल फॉक्स न्यूज से बात करते हुए ली मेंग यान ने बताया कि चीन की सरकार उनकी प्रतिष्ठा को खत्म करने की कोशिश में थी और उन्हें शांत करवाने के लिए साइबर अटैक करवाए जा रहे हैं। जिसके बाद उन्हें वहां खतरा महसूस होने लगा और वे अब कभी अपने घर लौट नहीं पाएंगी। उन्होंने कहा कि अगर वे कोरोना से जुड़ी सच्चाई चीन में बतातीं तो उन्हें जान से मार दिया जाता। 

चीन छोड़कर भागीं कोरोना साइंटिस्ट, बोलीं- चुप कराया मुझे, कर देते हत्या

यान का यह दावा है किया कि वे दुनिया के चुनिंदा साइंटिस्ट में शामिल थीं जिन्होंने सबसे पहले कोरोना वायरस पर स्टडी की। उन्होंने कहा कि चीन ने दिसंबर 2019 में हॉन्ग कॉन्ग के एक्सपर्ट को भी कोरोना पर रिसर्च करने से रोक दिया था। जिसके बाद उन्होंने अपने जानने वालों से कोरोना की जानकारी जुटाई। चीन में ही पली बढ़ी और पढ़ाई करने वाली यान को चीन के सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन के साइंटिस्ट ने 31 दिसंबर 2019 को ही बता दिया था कि कोरोना इंसान से इंसान में फैलता है, लेकिन तब तक चीन ने WHO या दुनिया को इसकी जानकारी नहीं दी थी। ली मेंग यान ने कहा कि कोरोना के मामले सामने आने के बाद शुरुआत में चीन के ज्यादातर डॉक्टर्स कहने लगे- 'हम इसके बारे में बात नहीं कर सकते। हमें मास्क पहनने की जरूरत है।' यान ने कहा कि काफी मरीजों की समय पर जांच नहीं की गई और समय पर इलाज नहीं किया गया।