24 घंटे बाद ही पलटा चीन, कहा-भारत की एकतरफा कार्रवाई से हुई हिंसा

पेइचिंग (उत्तम हिन्दू न्यूज) : तनाव वाले स्थलों से सेनाएं वापसी करने पर सहमति जताने के अगले ही चीन ने फिर पलटी मारी है। चीन के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता वू किआन ने वास्तविक नियंत्रण रेखा पर संघर्ष के लिए भारत को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि हम आशा करते हैं कि सीमावर्ती इलाकों शांति और स्थिरता बनी रहेगी। उन्होंने कहा कि भारत ने एकतरफा कार्रवाई की जिसकी वजह से हिंसा हुई। रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता किआन ने कहा, भारत-चीन सीमा पर हुए संघर्षों की पूरी जिम्मेदारी भारतीय पक्ष की है।

Reminder of threat posed by Beijing': US backs India amid border ...


भारत और चीन के शीर्ष सैन्य कमांडरों के बीच सोमवार को हुई बैठक के दौरान दोनों देशों की सेनाओं के बीच पूर्वी लद्दाख में टकराव वाले स्थानों से हटने पर सहमति बनी थी। बातचीत, ''सौहार्दपूर्ण, सकारात्मक और रचनात्मक माहौलÓÓ में हुई और यह निर्णय लिया गया कि दोनों पक्ष पूर्वी लद्दाख में टकराव वाले सभी स्थानों से हटने के तौर तरीकों को अमल में लाएंगे। आज किआन ने कहा कि चीनी सेना कोरोना वायरस के कम होने के साथ ही युद्ध की तैयारी के लिए जमीनी स्तर पर प्रशिक्षण को बढ़ा रही है। पीएलए के तिब्बत मिलिट्री कमांड ने हाल ही में पठारी इलाकों में लाइव फायर ड्रिल किया था। इसके जरिए सैनिकों की संयुक्त युद्ध क्षमता को परखा गया। यह ड्रिल नियमित रूप से हो रही है और किसी अन्य देश के खिलाफ नहीं है। 

India rejects China's claims of trespass - The Hindu

उधर, आज जब सेना प्रमुख एम.एम. नरवणे पूर्वी लद्दाख की फॉरवर्ड पोस्ट पर पहुंचे तो उन्होंने सैनिकों का सम्मान किया। सेना प्रमुख एम.एम. नरवणे ने ईस्टर्न लद्दाख के फॉरवर्ड पोस्ट पर उन जवानों को प्रशस्ति पत्र दिया, जिन्होंने चीनी सेना का डटकर मुकाबला किया था।