चंडीगढ़ के स्टूड़ेंट ने IED ब्लास्ट से दहलाना था जम्मू, रघुनाथ मंदिर समेत कई स्थान थे टारगेट पर- पुलिस ने खोला पूरा चिट्ठा

जम्मू (उत्तम हिन्दू न्यूज)-पुलिस ने आज जम्मू में बस स्टैंड से सात किलोग्राम इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (आईईडी) बरामद किया, जिससे एक बड़ा साजिश नाकाम हो गई। इस बरामदगी के साथ, पुलिस ने 2019 के पुलवामा हमले की दूसरी बरसी पर विस्फोट करने की आतंकवादियों की एक बड़ी साजिश को नाकाम कर दिया। जम्मू पुलिस के आईजी मुकेश सिंह ने बताया कि हमारे पास पहले से ही इनपुट थे कि पुलवामा हमले की बरसी पर आतंकी ग्रुप्स और वारदातों को अंजाम दे सकते हैं। इस वजह से हम लोग हाई अलर्ट पर थे। उन्होंने बताया, ''बीती रात हमने एक सोहेल नामक शख्स को गिरफ्तार किया। उसके पास से 6-6.5 किलो के आईईडी जब्त किया गया।'' उन्होंने आगे बताया कि गिरफ्तार किए गए आरोपी ने खुलासा किया है कि वह चंडीगढ़ में पढ़ाई करता है और उसे पाकिस्तान के अल बदर तंजीम से आईईडी प्लांट करने को लेकर मैसेज मिला था। 

Image result for jammu ied

सोहेल को आईईडी लगाने के लिए तीन से चार जगहों का टारगेट दिया गया था। उसे आईईडी लगाने के लिए 3-4 स्थान बताए गए थे, जिसमें रघुनाथ मंदिर, बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन तथा लखदाता बाजार सम्मिलित थे। इनमें से किसी एक स्थान पर उसको आईईडी रखना था। इससे बहुत बड़ा धमाका हो सकता था जिसे जम्मू पुलिस ने विफल कर दिया।" 

इसके बाद उसे श्रीनगर की फ्लाइट पकड़नी थी, जहां उसे अल बदल तंजीम का ग्राउंड वर्कर अतहर शकील खान उसे रिसीव करता। उन्होंने बताया कि चंडीगढ़ का रहने वाला एक काज़ी वसीम को भी इस मामले  की जानकारी थी। पुलिस ने उसे भी गिरफ्तार कर लिया है। इसके अलावा, एक आबिद नबी नामक शख्स को भी अरेस्ट किया गया है। मुकेश सिंह ने कहा कि पिछली रात, हमने 15 छोटे आईईडी और 6 पिस्तौलें सांबा सेक्टर से बरामद की हैं।

Jammu Kashmir: शहर में चलाया जा रहा तलाशी अभियान

उल्लेखनीय है कि 2019 में, दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले में एक आत्मघाती हमलावर ने विस्फोटक लदे वाहन से उस बस को टक्कर मार दी थी, जिसमें सीआरपीएफ जवान सवार थे। इस हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे।