बुरहान वानी के मारे जाने की चौथी बरसी पर कश्मीर में चाक-चौबंद सुरक्षा

04:25 PM Jul 08, 2020 |

श्रीनगर (उत्तम हिन्दू न्यूज): हिजबुल मुजाहिद्दीन के कमांडर बुरहान वानी के मारे जाने की चौथी बरसी पर कश्मीर घाटी विशेषकर दक्षिण कश्मीर और पुराने श्रीनगर इलाके में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। इन क्षेत्रों में बुधवार को भारी संख्या में सुरक्षा बलों के जवानों को तैनात कर दिया गया। बुरहान आज के दिन 2016 में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में अनंतनाग में मारा गया था।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि कानून-व्यवस्था बनाये रखने लिए श्रीनगर के संवेदनशील क्षेत्रों में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। श्रीनगर में ज्यादातर दुकानें और व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद है। दक्षिण कश्मीर में किसी तरह की अफवाहें फैलने से रोकने के लिए भारत संचार निगम लिमटेड सहित सभी कंपनियों की मोबाइल इंटरनेट सेवाएं स्थगित कर दी गई है।

पुराने श्रीनगर में कानून-व्यवस्था का बनाये रखने के लिए तैनात अतिरिक्त सुरक्षा बलों के जवानों को देखा जा सकता है। यहां पर एक ओर से सड़क को बंद कर दिया गया है। दुकानें तथा व्यापारिक प्रतिष्ठानें बंद है। निजी वाहन हालांकि सामान्य रूप से चल रहे हैं। कोरोना वायरस के मद्देनजर घाटी में गत चार महीने से सार्वजनिक वाहन सड़कों से नदारद हैं।

जामिया तथा नजदीकी बाजारों में भी दुकानें तथा व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद हैं। हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के उदारवादी धड़े के अध्यक्ष मीरवाइज के गढ़ माने जाने वाले ऐतिहासिक जामिया मस्जिद के नजदीक अतिरिक्त सुरक्षा बलों को तैनात कर दिया गया है। मस्जिद के मुख्य द्वारा पर सुरक्षा बलों के वाहन खड़े हैं।

नया श्रीनगर तथा सिविल लाइन इलाके में भी सुरक्षा बलों के जवान तैनात है। यहां पर कानून -व्यवस्था को बनाये रखने के लिए सुरक्षा बलों के जवान सुबह से ही गश्त लगा रहे हैं। श्रीनगर के मुख्य केंद्र लाल चौक, बाटमालू और दल गेट इलाके में भी दुकानें बंद हैं। अनंतनाग, पुलवामा, कुलगाम, शोपियां तथा उत्तर कश्मीर के कुछ अन्य हिस्सों में भी इसी तरह से नजारा है।