कैप्टन सरकार खुद ही माफिया को बढ़ावा दे रही : चीमा

चंडीगढ़ (विज): आम आदमी पार्टी द्वारा राज्य में अवैध खनन के मामलों पर कैप्टन सरकार द्वारा कार्रवाई न करने व उनको संरक्षण देने पर टिप्पणी करते हुए कहा है कि राज्य सरकार ने माननीय हाईकोर्ट में यह मान कर कि पिछले 4 साल में केवल 3 ही केस दर्ज किए गए हैं यह सिद्ध कर दिया है कि कैप्टन सरकार खुद ही माफिया को बढ़ावा दे रही है।

पार्टी के वरिष्ठ नेता और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष हरपाल सिंह चीमा और पार्टी के रोपड के जिलाध्यक्ष दिनेश चड्ढा ने कहा कि इस बात से आम आदमी पार्टी द्वारा कैप्टन सरकार पर लगाए जा रहे इल्जाम सिद्ध होते हैं। उन्होंने कहा कि कैप्टन और उनके मंत्री खुद माफियाओं के लूट के धंधे में साझीदार हैं। पहले उन्होंने सरकारी कंपनी को माफियाओं के साथ मिलकर लूटा, अब पुलिस नाके को ही माफियाओं के हवाले कर दिया। आप नेताओं ने मांग की कि हाई कोर्ट में पहले से पढ़ी रिपोर्ट जिसमें के बड़े नेताओं व उच्चाधिकारियों के नाम माइनिंग माफिया में आए हैं उसको सार्वजनिक किया जाए।

राज्य की कानून व्यवस्था को कैप्टन ने माफियाओं के हवाले कर दिया है। उन्होंने कहा पंजाब के लोगों के साथ इससे बड़ा धोखा क्या हो सकता है कि आज पुलिस के बदले गुंडे नाके लगा रहे हैं और लोगों से गैरकानूनी ढ़ंग से पैसा वसूल रहे हैं। सरकार ने चार साल में छोटे तस्करों मात्र तीन एफआईआर दर्ज किए हैं जबकि ऐसे सैकड़ों तस्कर है जिनका डेटा पुलिस के पास मौजूद है। सरकार ने हाईकोर्ट के दवाब के कारण इन तीनों पर मजबूरी में केस दर्ज किया है।   
 उन्होंने कहा कि बादल सरकार की तरह ही कैप्टन सरकार में माफियाओं का बोलबाला है। गैर कानूनी नाके के मामले से यह साबित हो गया है कि कैप्टन के राज में कानून का शासन नहीं, माफियाओं का शासन है। बादल सरकार की गुंडई से तंग आकर पंजाब की जनता ने कैप्टन पर भरोसा किया था और बेहतर पंजाब बनाने के लिए उनको वोट दिया था। लेकिन कैप्टन और उनके मंत्री माफियाओं और गुंडों के साथ मिलकर पंजाब की जनता के साथ कैप्टन ने बड़ा धोखा किया है। पूर्व की बादल सरकार ने पहले माफियाओं को बढ़ावा दिया और कानून-व्यवस्था को चौपट किया था। कैप्टन बादलों से भी आगे निकलकर पुलिस नाकों को ही माफियाओं के हवाले कर दिया।  पुलिस कार्रवाई करने के बदले उन्हें संरक्षण दे रही है।