कृषि बिलों के नाम पर किसानों के साथ दोहरा धोखा कर रही है कैप्टन सरकार : भगवंत मान

चंडीगढ़ (प्रेम विज): आम आदमी पार्टी (आप) के पंजाब अध्यक्ष व सांसद भगवंत मान ने मुख्यमंत्री अमरिन्दर सिंह पर दोष लगाए हैं कि वह किसानों-मजदूरों की भावनाओं के साथ खेल कर कृषि बिलों के नाम पर दोनों तरफ पास से बेवकूफ बना रहे हैं। 

आप सांसद ने मुख्यमंत्री को सवाल किया कि यदि पंजाब विधानसभा में पास किए कानूनों में सचमुच दम होता तो अमरिन्दर सरकार इन बिलों में नरमा और कपास समत एम.एस.पी वाली बाकी सभी फसलों को शामिल करने से न भागती। 

भगवंत मान ने कहा कि एक तरफ कैप्टन अमरिन्दर सिंह किसानी संघर्ष को तारपीडो करने के लिए प्रधान मंत्री नरिन्दर मोदी के साथ मिल कर संसद की ओर से पास कानूनों को पंजाब विधान सभा में संशोधन किए जाने का नाटक कर रहे हैं, दूसरी तरफ इस समय पंजाब की मंडियों में नरमे और मक्का की फसल ऐलानी एमएसपी क्रमवार 5745 रुपए और 1870 रुपए प्रति क्ंिवटल की अपेक्षा औसतन एक हजार रुपए प्रति क्ंिवटल कम मूल्य पर खरीदे जाने को पूरी तरह अनदेखा कर रहे हैं।


भगवंत मान ने मुख्यमंत्री को पूछा कि वह पंजाब के लोगों/किसानों को हां या न में बताएं कि क्या पंजाब विधान सभा के पास केंद्रीय कानूनों को संशोधन का कानूनी और कानूनन अधिकार है? क्या इन कानूनों पर राज्यपाल और राष्ट्रपति हस्ताक्षर करेंगे? क्या यह कानून पंजाब के किसान के गेहूं और धान की फसल की एमएसपी पर निश्चित रूप से खरीदे जाने की गारंटी करते हैं?