ईरान द्वारा टैंकर जब्त करने पर ब्रिटेन ने दी प्रतिक्रिया

लंदन (उत्तम हिन्दू न्यूज): ईरान द्वारा खाड़ी में दो टैंकरों को जब्त किए जाने के बाद, जिनमें से एक टैंकर ब्रिटेन का है, ईरान में ब्रिटेन के राजदूत तेहरान प्रशासन से संपर्क कर रहे हैं। विदेश सचिव जेरेमी हंट ने यह जानकारी दी। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, कैबिनेट ऑफिस ब्रीफिंग रूम्स (सीओबीआर) के साथ आपातकालीन बैठक के बाद शुक्रवार रात लंदन स्थित विदेश विभाग ने हंट का एक बयान जारी किया।

हंट ने कहा कि सीओबीआर की बैठक इसकी समीक्षा करने के लिए की गई है कि मौजूदा स्थिति क्या है तथा दोनों जहाजों को रिहा कराने के लिए क्या किया जा सकता है। इनमें से एक जहाज ब्रिटेन का है और दूसरा जहाज लाइबेरिया का है। हंट ने कहा, जहाज पर कर्मियों के रूप में कई देशों के नागरिक हैं, लेकिन हमें लगता है कि जहाज पर कोई ब्रिटिश नागरिक नहीं है। 

उन्होंने कहा, इस मुद्दे को सुलझाने के लिए तेहरान में हमारे राजदूत ईरानी विदेश मंत्रालय के संपर्क में हैं और हम अंतर्राष्ट्रीय साझेदारों के साथ करीबी से काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा, जहाजों को जब्त करना अस्वीकार्य है। जल मार्ग की स्वतंत्रता कायम रखना जरूरी है और तभी सभी जहाज इस क्षेत्र में आजादी से तथा सुरक्षित रूप से गुजर सकते हैं।