जीरकपुर में देह व्यापार का पर्दाफाश

विदेशी महिलाओं द्वारा पुलिस को फोन करने का बाद हुआ खुलासा 
जीरकपुर (विनय कुमार जैन):
सोमवार देर रात करीब 1 बजे होटल कारवा में उस समय हंगामा हो गया जब विदेशी महिलाओं का होटल में ठहरे दो युवकों से किसी बात को लेकर झगड़ा हो गया।

इसके बाद विदेशी महिलाओं व युवकों ने पुलिस कंट्रोल रुम पर अपनी-अपनी शिकायत के लिए फोन किया। मौके पर जीरकपुर थाने से एएसआई बलविंदर सिंह अपनी टीम लेकर मामले की जांच के लिए पहुंचे। एएसआई बलविंदर सिंह के अनुसार होटल में देह व्यापार का धंधा चल रहा था। उन्होंने मौके से 12 लोगों को राऊंडअप किया और थाने ले गए। जहां पुलिस ने होटल मालिक सहित कुल 14 लोगों के खिलाफ इमोरल ट्रैफिक एक्ट की धारा 3, 4, 5 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। हैरानी की बात तो यह है कि पुलिस देर रात होटल मालिक की पत्नी व कमरे में सो रहे उनके चार नाबालिग बच्चों को भी थाने ले गई और सारी रात बच्चों को थाने में भूखा प्यासा रखा। बता दें कि होटल मालिक अपने परिवार सहित इसी होटल में रहता है।

बच्चों को भी बितानी पडी थाने में रात
हालांकि पुलिस की कहानी कुछ ओर बयां कर रही है लेकिन बच्चों ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि उनकी उम्र 4,10,12 व 14 साल है। उनके होटल में रात काफी शोर हुआ। एक पुलिस वाले अंकल ने उन्हें कमरे से उठाया और बाहर ले आए जहां रिसेप्शन वाली दीदी को एक पुलिस अंकल पीट रहे थे। फिर सभी को थाने ले गए जहां उन्हें एक कमरे में बंद कर दिया गया। बच्चों ने कहा कि पुलिस वाले अंकल उनका लैपटॉप भी साथ ले गए जिसमें उनकी ऑन लाइन क्लॉसेज लगती थी। जब उन्होंने अपना लैपटॉप वापिस मांगा तो उन्होंने देने से मना कर दिया। जिक्रयोग है कि खुद एसएसपी मोहाली ने सभी थाना इंचार्ज को निर्देश दिए थे कि काननू के प्रावधान अनुसार किसी बच्चे व महिला को थाने में नहीं रखा जाएगा लेकिन जीरकपुर में नाबालिग बच्चों को सारी रात थाने में रखा गया जोकि काफी सहमें हुए अपनी बात बता रहे थे।

पुलिस ने यह बताई कहानी
पुलिस ने बताया कि उन्हें गुप्त सूचना मिली थी कि पटियाला रोड पर होटल कारवा में देह व्यापार का धंधा चल रहा है, जिसे यूपी निवासी पंकज सिंह व उसकी पत्नी उमा सिंह व भूपिंदर कौर निवासी गढ़शंकर होशियारपुर चला रहे हैं। पुलिस जब मौके पर पहुंची तो पुलिस ने वहां से कुल 13 लोगों को राऊंडअप किया जबकि होटल मालिक पंकज फरार हो गया। पुलिस ने इस मामले में घनश्याम सोनी, श्रीधर द्विवेदी, राहुल तिवाड़ी, अदित्य कंबोज, गुरसेवक सिंह, नमन भुटेजा, राकेश रावत, रोहित सैनी, राम कृष्ण, कमलेश, रोहित चौहान ,ऊमा सिंह व भूपिंदर कौर के खिलाफ मामला दर्ज किया है लेकिन पुलिस ने इस मामले में विदेशी महिलाओं के खिलाफ मामला दर्ज नहीं किया जिनके झगड़े के बाद यह सारा मामला शुरु हुआ था। बच्चे किसी को तो हैंडओवर करने ही थे जब रात को कोई लेने नहीं आया तो बच्चे थाने में अपनी मां के साथ ही थे।