किसानों के समर्थन में भूपिंदर सिंह मान का बड़ा फैसला, सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित कमेटी से खुद को किया अलग 

नई दिल्ली (उत्तम हिन्दू न्यूज): सुप्रीम कोर्ट द्वारा कृषि कानूनों को लेकर गठित समिति के सदस्य भुपिंदर सिंह मान ने खुद को अलग कर लिया है। उन्होंने कहा कि वो किसानों से बात करने के लिए बनाई गई समिति में जगह देने के लिए शुक्रगुजार हैं, लेकिन किसानों और आम लोगों में उनको लेकर चल रही शंकाओं के चलते वो खुद को इससे अलग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि वो किसानों और पंजाब के साथ हैं।

bhupinder singh maan news in Hindi, bhupinder singh maan की ताज़ा ख़बर और  ब्रेकिंग न्यूज़ – Prabhasakshi

कौन हैं भूपिंदर सिंह मान
सुप्रीम कोर्ट ने किसान और सरकार के बीच गतिरोध को खत्म करके समाधान निकालने के लिए चार सदस्यीय कमेटी बनाई है। इस कमेटी में ऑल इंडिया किसान कॉर्डिनेशन कमेटी के प्रमुख और पूर्व राज्यसभा सांसद भूपिंदर सिंह मान को भी शामिल किया गया था।  उनका संगठन के तहत कई किसान संगठन आते हैं, ऐसे में किसानों पर उनका प्रभाव भी अच्छा है। बता दें ऑल इंडिया किसान कॉर्डिनेशन कमेटी के प्रमुख भूपिंदर सिंह मान ने दिसंबर महीने में ही कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से मुलाकात कर नए कानूनों का समर्थन कर दिया था। हालांकि, कुछ संशोधनों की मांग जरूर की थी, जिनमें एमएसपी पर लिखित गारंटी देने को कहा गया था। भूपिंदर सिंह मान का आंदोलनरत किसान विरोध कर रहे हैं।

किसान आंदोलन: समिति कैसे करेगी न्याय, सदस्य कर चुके हैं कृषि कानूनों का  समर्थन - glbnews.com

मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने गठित की थी समिति
मंगलवार को तीन कृषि कानूनों पर अहम फैसला सुनाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने अगले आदेश तक इनके अमल पर रोक लगा दी थी। साथ ही कोर्ट ने जमीनी स्थिति समझने के लिए एक चार सदस्यीय समिति का गठन किया था और सभी पक्षों को इसके सामने अपनी दलीलें रखने को कहा। इस समिति में भूपिंदर सिंह मान, अंतरराष्ट्रीय नीति संस्थान के प्रमुख डॉ प्रमोद कुमार जोशी, कृषि अर्थशास्त्री अशोक गुलाटी और शेतकारी संगठन के अनिल घनवट को जगह दी थी।