भंडारा हादसा : मरने वालों के परिवार को मिलेगा 5-5 लाख का मुआवजा, डिप्टी CM पवार ने सभी अस्पताल के ऑडिट का दिया आदेश

भंडारा (उत्तम हिन्दू न्यूज): महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शनिवार को भंडारा जिला सामान्य अस्पताल में आग लगने से हुई 10 शिशुओं मौत मामले में तत्काल जांच के आदेश जारी किए हैं।  वहीं राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने भी आग से मरने वाले बच्चों के परिवार वालों के लिए 5-5 लाख लाख रुपये के मुआवजे की घोषणा की है।

भंडारा अस्पताल में 10 बच्चों की मौत (फोटो-आजतक)

मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अस्पताल के न्यूबोर्न केयर यूनिट में आग में जलकर मारे गए नवजात शिशुओं की मौत पर गहरा दुख व्यक्त किया। बयान में कहा गया है कि जैसे ही मुख्यमंत्री को इस घटना के बारे में पता चला, उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री राजेश से बात की और मामले को गंभीरता से लेते हुए टोपे ने पूरी घटना की तत्काल जांच का निर्देश दिया।

Ajit Pawar

स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने बताया कि यह घटना बहुत ही दुखद है। इस घटना में जिन दस बच्चों की मौत हुई है, उनमें 3 की जलने से व 7 की दम घुंटने से मौत हुई है। आग लगने का प्राथमिक कारण शार्ट सर्किट बताया जा रहा है, लेकिन इस घटना की उच्चस्तरीय जांच शुरू कर दी गई है। जो भी दोषी मिलेगा, उसपर कठोर कार्रवाई की जाएगी। 

वहीं मुख्यमंत्री ने जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक से भी बात की है और उन्हें भी जांच का निर्देश दिया है। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री टोपे ने इस घटना पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि वह आज शाम 5 बजे घटनास्थल का दौरा करेंगे। इसी क्रम में महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम और वित्त मंत्री ने अजित पवार ने भंडारा जिला सामान्य अस्पताल में आग की घटना के बाद तत्काल आधार पर राज्य के सभी अस्पतालों का ऑडिट करने का आदेश दिया है।

इस हादसे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह, कांग्रेस नेता राहुल गांधी समेत कई नेताओं ने दुख जताया है।